बालाघाट

डॉ प्रज्ञा ने 180 किलोमीटर का सफर स्कूटी से किया तय,CM शिवराज ने कहा बेटी पर गर्व है

भोपाल -23 अप्रैल- कोरोना संकटकाल में जहां लोग घरों पर सुरक्षित रह रहे हैं तो वही महिला डॉक्टर ने मानवीयता की मिसाल पेश की है जी हां बालाघाट की डॉ प्रज्ञा घरडे ने अपनी ड्यूटी जॉइन करने के लिए बालाघाट से स्कूटी से नागपुर के लिए निकल पड़ी। अपने कर्तव्य के प्रति निष्ठावान डॉक्टर ने जब सफर तय किया तो लोगों मैं डॉक्टर के इस हौसले की तारीफ शुरू कर दी अब इसे लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट कर कहा है कि मध्यप्रदेश को अपनी बेटी पर गर्व है।

बता दें कि संकट की इस घड़ी में डॉ प्रज्ञा घर डे बालाघाट के बूढ़ी की रहने वाली हैं और नागपुर की मेड्रीटीना अस्पताल और शांति निकेतन अस्पताल में आरएमओ के पद पर पदस्थ हैं । पिछले दिनों वह छुट्टियों पर अपने घर बालाघाट आई हुई थी और इसी दौरान lock-down लगने से वह घर में ही फस गई । इस कारण उन्हें नागपुर लौटने के लिए कोई बस ट्रेन या और सार्वजनिक परिवहन के साधन नहीं मिल रहे थे लेकिन वह इस संकट काल में हर स्थिति में ड्यूटी ज्वाइन करना चाहती थी और इसी जज्बे के चलते उन्होंने फैसला किया कि वह अब अपनी स्कूटी से ही नागपुर तक का सफर तय करेंगी।

डॉ प्रज्ञा सुबह 8:00 बजे बालाघाट से अपनी स्कूटी पर निकल पड़ी और करीब 7 घंटे मैं 180 किलोमीटर की दूरी तय कर वह नागपुर पहुंच गई । उनके स्कूटी से नागपुर जाने के फैसले पर घरवाले पहले झिझक रहे थे। लेकिन काम के प्रति उनके समर्पण को देख आखिर उन्होंने भी मंजूरी दे दी। बताया जा रहा है कि डॉ प्रज्ञा 2 अस्पतालों में 6- 6 घंटे काम करती हैं। 6 घंटे में एक कोविड-19 ताल में अपनी सेवाएं देती हैं और 6 घंटे अस्पताल में भी कार्यरत हैं दिन में करीब 12 घंटे उन्हें पीपीई किट पहन कर काम करना पड़ता है। इस दौरान वह कुछ खा पी भी नहीं सकते लेकिन फिर भी मानवता की यह सिपाही कोरोना महामारी के खिलाफ युद्ध में जी जान से अपनी भूमिका निभा रहे हैं। डॉ प्रज्ञा के जज्बे की सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी सराहना की है और ट्वीट करते हुए कहा है कि सेवा और कर्तव्य के प्रति समर्पित बेटी पर मध्य प्रदेश को गर्व है। डॉ प्रज्ञा को आशीर्वाद और शुभकामनाएं।

Back to top button