बैतूल

बैतूल : पांडवों का खुद को वंशज बताते है ये समुदाय ,कांटों के बिस्तर पर लेटकर देते है सत्य की परीक्षा

21वीं सदी में भी लोग सत्य की परीक्षा कांटों पर लेटकर देते हैं ये हकीकत है मध्य प्रदेश में लोग सत्य की परीक्षा कांटों के बिस्तर पर लेटकर देते हैं.ग्रामीणों  का मानना है कि कांटों की सेज पर लेटकर वो अपनी आस्था, सच्चाई और भक्ति की परीक्षा देता हैं। ऐसा करने से भगवान खुश होते हैं और उनकी मनोकामना भी पूरी होती है ।

बैतूल – एक गांव में अंधविश्वास की परम्परा के चलते लोग इक्कीसवीं सदी में भी कांटो पर लेट कर परीक्षा देते है । आस्था के नाम पर एक दर्दनाक खेल खेला जा रहा है । अपने आप को पांडवों का वंशज कहने वाले रज्जड़ समाज के लिए अपनी मन्नत पूरी कराने और बहिन की विदाई करने के लिए लोग खुशी-खुशी कांटों की सेज पर लेटते हैं । लेकिन ये हकीकत है और ये हकीकत मध्य प्रदेश के बैतूल जिले में देखने को मिलती है, जहां लोग सत्य की परीक्षा कांटों के बिस्तर पर लेटकर देते हैं.

बता दें कि सेहरा गांव में हर साल अगहन मास पर रज्जड़ समाज के लोग इस परंपरा को निभाते हैं । इन लोगों का कहना है कि हम पांडवों के वंशज हैं । पांडवों ने कुछ इसी तरह से कांटों पर लेटकर सत्य की परीक्षा दी थी । इसीलिए रज्जड़ समाज इस परंपरा को सालों से निभाता आ रहा है । ग्रामीणों का मानना है कि कांटों की सेज पर लेटकर वो अपनी आस्था, सच्चाई और भक्ति की परीक्षा देता हैं। ऐसा करने से भगवान खुश होते हैं और उनकी मनोकामना भी पूरी होती है । इसके अलावा यह भी मान्यता है कि इस कार्यक्रम के बाद वे अपनी बहन कि विदाई करते है । रज्जड़ समाज के ये लोग पूजा करने के बाद नुकीले कांटों की झाड़ियां तोड़कर लाते हैं और फिर उन झाड़ियों की पूजा की जाती हैं । इसके बाद एक-एक करके ये लोग नंगे बदन इन कांटों पर लेटकर सत्य और भक्ति का परिचय देते हैं ।

ज्यादातर लड़को को भाभी क्यों आती हैं पसंद,यह है असली वजह

इस मान्यता के पीछे एक कहानी यह है कि एक बार पांडव पानी के लिए भटक रहे थे । बहुत देर बात उन्हें एक नाहल समुदाय का एक व्यक्ति दिखाई दिया । पांडवों ने उस नाहल से पूछा कि इन जंगलों में पानी कहां मिलेगा । लेकिन नाहल ने पानी का स्रोत बताने से पहले पांडवों के सामने एक शर्त रख दी । नाहल ने कहा कि, पानी का स्रोत बताने के बाद उनको अपनी बहन की शादी भील से करानी होगी । पांडवों की कोई बहन नहीं थी इस पर पांडवों ने एक भोंदई नाम की लड़की को अपनी बहन बना लिया और पूरे रीति-रिवाजों से उसकी शादी नाहल के साथ करा दी । विदाई के वक्त नाहल ने पांडवों को कांटों पर लेटकर अपने सच्चे होने की परीक्षा देने का कहा । इस पर सभी पांडव एक-एक कर कांटों पर लेट और खुशी-खुशी अपनी बहन को नाहल के साथ विदा किया ।

इसलिए रज्जड़ समाज के लोग अपने आपको पंड़वों का वंशज कहते हैं और कांटों पर लेटकर परिक्षा देते हैं ।परंपरा पचासों पीढ़ी से चली आ रही है, जिसे निभाते वक्त समाज के लोगों में खासा उत्साह रहता है । ऐसा करके वे अपनी बहन को ससुराल विदा करने का जश्न मनाते हैं । यह कार्यक्रम पांच दिन तक चलता है और आखिरी दिन कांटों की सेज पर लेटकर खत्म होता है । डॉ रानू वर्मा का कहना है कि ऐसे नंगे बदन कांटों पर लेटना किसी भी लिहाज से सही नहीं है । इससे गंभीर चोट लग सकती है और कई तरह के संक्रमण और बैक्टिरियल इंफेक्शन हो सकते हैं और इससे किसी की जान भी जा सकती है ।

Back to top button