अज़ब-गज़ब

दुनिया का अनोखा जलप्रपात , हर सेकेंड 300 लीटर बहता है पानी, जो भी अंदर गया नहीं लौटा वापस

आज विज्ञान ने कितनी भी तरक्की कर ली हो, दुनिया में कुछ ऐसी चीजें हैं जो विज्ञान और वैज्ञानिकों से परे हैं। इसी कड़ी में आज हम आपको एक ऐसे ही झरने के बारे में बताने जा रहे हैं।

Ajab Gajab News: हम 21वीं सदी में पहुंच चुके हैं और विज्ञान बहुत प्रगति कर चुका है. इसके बाद भी दुनिया में कुछ ऐसे कुदरती (Mysterious Spring in France) रहस्य हैं, जिन्हें चमत्कार (Mysteries of The World) ) से कम नहीं कहा जा सकता है. यहां तक कि हजारों साल बाद भी इन रहस्यों से पर्दा नहीं उठ सका है.ऐसा ही एक अनसुलझा रहस्य फ्रांस के बरगंडी (France’s Burgundy region) राज्य में टोनेरे नामक शहर में है. यहां हजारों साल से धरती के अंदर से हर सेंकेड 300 लीटर से ज्यादा पानी (Fosse Dionne Spring in France) लगातार निकलता रहता है. आज तक वैज्ञानिक भी इस पानी के सोर्स का पता नहीं लगा सके हैं…

इस पर विश्वास करना थोड़ा मुश्किल है, लेकिन यह सच्चाई के करीब है कि आज भी दुनिया में कुछ ऐसी चीजें हैं जो विज्ञान और वैज्ञानिकों से परे हैं। विज्ञान ने कितनी भी तरक्की कर ली हो, दुनिया में कुछ ऐसी प्राकृतिक घटनाएं होती हैं जिनके आगे विज्ञान के सारे सिद्धांत फेल हो जाते हैं। इसी कड़ी में आज हम आपको प्रकृति के एक ऐसे चमत्कार के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसका रहस्य आज तक खुल नहीं पाया है।

हम बात कर रहे हैं फ्रांस के बरगंडी क्षेत्र में बहने वाले Fosse Dionne Spring की, इस झरने के पानी का इस्तेमाल रोमन लोग पीने के लिए करते थे, जबकि 17वीं सदी में लोग इसमें नहाते थे।

इसका जल स्रोत किसी को नहीं मिला

पृथ्वी से लगातार बह रहे इस पानी के स्रोत का पता लगाने के लिए वैज्ञानिकों ने कई बार कोशिश की है, लेकिन आज तक वे इस रहस्य को नहीं सुलझा पाए हैं कि इस झरने में पानी कहां से आता है। स्थानीय लोग इस जलप्रपात को प्रकृति का चमत्कार मानते हैं। इस झरने से हर सेकेंड 300 लीटर पानी धरती में बहता है। इतना ही नहीं बरसात के मौसम में यहां से प्रति सेकेंड 3000 लीटर से ज्यादा पानी बहने लगता है।

इस जलप्रपात के जल स्रोत को खोजने की कोशिश 17वीं सदी से चल रही है, लेकिन इसे खोजने गए ज्यादातर लोगों की मौत हो गई। जिसके कारण यह स्थान और भी रहस्यमयी माना जाने लगा। इस झरने के बारे में कई लोगों का मानना ​​है कि इसमें पानी दूसरी दुनिया से आता है और वह जगह सांपों का घर है। 1974 में, दो गोताखोरों ने इसके स्रोत को खोजने की बहुत कोशिश की, लेकिन वे दोनों उसमें खो गए और उनकी मृत्यु हो गई।

फिर 1996 में एक गोताखोर ने फिर कोशिश की और फिर उसके साथ कुछ ऐसा हुआ जिसके बारे में आज तक किसी ने नहीं सुना। कुछ साल पहले एक और गोताखोर ने कोशिश की, तो वह आधे रास्ते में ही वापस आ गया। धरती से फुट रहे इस झरने के स्रोत का पता लगाने की कई बार कोशिश की गई, लेकिन कोई कामयाब नहीं हो सका।

Back to top button