अज़ब-गज़ब

Viral Video: Newspaper बेचने का ये शानदार तरीका आपको हसने व अखबार खरीदने पर कर देगा मज़बूर

Viral Video: This great way to sell newspaper will make you laugh and buy newspaper

अखबार Newspaper बेचने के इस अनोखे अंदाज पर हंसना पड़ेगा आपको – आजकल सोशल मीडिया के जरिए हम ऐसे कई टैलेंट देखते हैं जो गुमनाम रहते हैं. ऐसी कई खबरें वायरल होने के बाद, संबंधित व्यक्ति काफी लोकप्रिय हो गया और समाज से सम्मान प्राप्त किया। इनमें से सबसे प्रसिद्ध पश्चिम बंगाल के भुवन बडकर हैं, जो सड़कों पर मूंगफली बेचते हैं और “कच्चे बादाम” गाना गाते हैं। इसी तरह मंडल स्टेशन पर गुनगुनाते हुए रानू को बॉलीवुड के गाने गाने का मौका मिला और वह फर्श से उठ गईं.

इसी तरह नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल जैसे विभिन्न नेताओं की नकल कर खिलौने बेचने वाले बनारस निवासी अविनाश दुबे ने भी अपना नाम बनाया है.

बिहार से अब एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें एक अधेड़ उम्र का आदमी अनोखे अंदाज में अखबा Newspaperबेच रहा है।

Viral Video: Newspaper बेचने का ये शानदार तरीका आपको हसने व अखबार खरीदने पर कर देगा मज़बूर
photo by google

Read also-Sridevi की बेटी को इस लड़के ने दिया धोखा फिर भी नहीं बना पा रही दूरी, जान्हवी फिर गई इसके साथ डिनर डेट पर,देखे अलग तस्वीरे!

लोग ट्रेन में अखबार Newspaper बेचते हुए इस शख्स की बौद्धिक क्षमता की चर्चा कर इस वीडियो को खूब वायरल कर रहे हैं. इस वीडियो ने सभी को हैरान कर दिया। अगर आप वीडियो देखेंगे तो आपको इस व्यक्ति की प्रतिभा दिखाई देगी और आप अपनी उंगली अपने दांतों के नीचे रख लेंगे। जीत प्रसाद के अनुसार अखबार पढ़ने वाले समझदार हो जाएंगे और यही जीवन का सबसे बड़ा हथियार है। इसे सिर्फ एक अखबार मत समझो; इसे इनाम समझो

अखबार Newspaper की वेबसाइट के मुताबिक, जीत प्रसाद लोकल से एक्सप्रेस ट्रेनों में अखबार बेचता है और फिलहाल बातचीत कर रहा है।
बिहार के दानापुर अनुमंडल के खगौल के रहने वाले जीत प्रसाद कर्मयोगी स्पेशल स्टाइल और बॉडी लैंग्वेज का इस्तेमाल कर ट्रेनों में अखबार बेचते हैं. उनकी कविताएं सुनकर यात्री भी अखबार खरीदने के लिए दौड़ पड़े।

Viral Video: Newspaper बेचने का ये शानदार तरीका आपको हसने व अखबार खरीदने पर कर देगा मज़बूर
photo by google

जीत प्रसाद का अखबार Newspaper बेचने का तरीका उनकी असाधारण प्रतिभा को दर्शाता है। जीत प्रसाद का कहना है कि वह अपने तरीके से अखबार बेचते हैं। अपने स्टाइल और बॉडी लैंग्वेज का इस्तेमाल करते हुए वह रोजाना अखबार बेचती हैं। लोग मानते हैं कि जो देखा जाता है वह खरीदा जाता है।

Back to top button