व्यापार

ड्रैगन फ्रूट 40 साल तक देता है फल, खेती से हो जाएंगे मालामाल,लाखो में होगी कमाई,जानिए क्या है तरीका

इसके लिए राज्य सरकार ड्रैगन फ्रूट की खेती के लिए किसानों को सब्सिडी की सुविधा भी प्रदान कर रही है। इसके उत्पादन के लिए राज्य सरकार 35 हजार रुपये प्रति एकड़ की दर से सब्सिडी देगी।

केंद्र और राज्य सरकारें किसानों की आय बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास कर रही हैं. इसके लिए सरकार की विभिन्न परियोजनाओं से किसान लाभान्वित हो रहे हैं। सरकार चाहती है कि किसान पारंपरिक खेती के बजाय बाजार की मांग आधारित खेती पर ध्यान दें ताकि उन्हें अच्छा लाभ मिल सके। इस संदर्भ में हरियाणा सरकार बागवानी फसलों पर किसानों को सब्सिडी प्रदान कर रही है। इसके लिए राज्य सरकार ड्रैगन फ्रूट की खेती के लिए किसानों को सब्सिडी की सुविधा भी प्रदान कर रही है। इसके उत्पादन के लिए राज्य सरकार 35 हजार रुपये प्रति एकड़ की दर से सब्सिडी देगी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक किन्नू, अमरूद, अनार और स्ट्रॉबेरी के बाद अब सिरसा में ड्रैगन फ्रूट और अंजीर की खेती पर जोर दिया जा रहा है. इसके लिए बागबानी किसानों को ड्रैगन फ्रूट और अंजीर की खेती के लिए जिला उद्यानिकी विभाग अनुदान देगा। सरकार जिले में ड्रैगन फ्रूट और अंजीर का उत्पादन बढ़ाने की इच्छुक है, क्योंकि उनकी बाजार में मांग अच्छी है और कीमतें अन्य फलों की तुलना में अधिक हैं, जिससे किसानों को फायदा होगा।

ड्रैगन फ्रूट की खेती से होगा इतना लाभ

बता दें कि ड्रैगन फ्रूट मानसून में तैयार होता है। इसके फल मानसून के 4 महीने में हर 40 दिनों के अंतराल में पकते हैं। इसका एक फल का वजन औसतन 100 से 300 ग्राम तक होता है। इसका एक बार पेड़ 40 साल तक फल देता है। ड्रैगन फ्रूट यूनिटी बूस्टर है, इसलिए यह 500 रुपए किलो तक बिकता है। किसान इसकी खेती कर सालाना लाखों रुपए कमा सकते हैं। 

बागवानी विभाग देगा 30 हजार रुपए प्रति एकड़ अनुदान

जिला बागवानी विभाग द्वारा अंजीर व ड्रैगन फ्रूट की खेती को बढ़ावा देने के लिए किसानों को 30 हजार रुपए प्रति एकड़ अनुदान राशि देगा। किसानों को अंजीर व ड्रैगन फ्रूट को लगाने, पालन पोषण इत्यादि के बारे में प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। 

फल-सब्जियों की बिक्री के लिए रेहडियां उपलब्ध कराई जाएंगी

बागबानी विभाग की ओर से छोटे किसानों को उनके फल-सब्जी बेचने के लिए फेरीवाले उपलब्ध कराए जाएंगे, जिससे किसानों को फलों और सब्जियों का बाजार के मुकाबले खुदरा भाव से बेहतर दाम मिल सके, जिससे उनकी आय में वृद्धि हो सके. इस परियोजना के तहत बागवानी विभाग किसानों को रेहडियां उपलब्ध कराएगा। रेहड़ी-पटरी वालों के लिए विभाग 30,000 रुपये का अनुदान देगा।

ऐसा कहते हैं अधिकारी

झोराड़, जिला उद्यान अधिकारी रघुबीर सिंह ने मीडिया को बताया कि बागबानी विभाग जिले में फल उत्पादन को बढ़ावा दे रहा है. जिले में ड्रैगन फ्रूट और अंजीर की खेती को बढ़ावा देने के लिए किसानों को प्रति एकड़ 30,000 रुपये की सब्सिडी दी जाएगी। साथ ही रेहडियां वालों को बिक्री के लिए किसानों तक फल-सब्जियां पहुंचाई जाएंगी। साथ ही छोटे किसानों को रेहडियां वालों को 30,000 रुपये की सब्सिडी 15,000 रुपये दी जाएगी।

ड्रैगन फ्रूट और अंजीर की खेती पर सब्सिडी के लिए कहां करें आवेदन

हरियाणा में ड्रैगन फ्रूट और अंजीर की खेती पर सब्सिडी के लिए किसानों को जिला बागवानी विभाग से संपर्क करना होगा। इसके लिए किसानों को बागवानी विभाग की वेबसाइट पर अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। 

फलों की खेती में सब्सिडी के लिए आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

ड्रैगन फ्रूट और अंजीर की खेती के लिए उद्यानिकी विभाग की ओर से किसानों को सब्सिडी की सुविधा दी जाएगी. इसके लिए किसानों को उद्यानिकी विभाग में आवेदन करना होगा। आवेदन करने के लिए किसानों को कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेजों की आवश्यकता होगी जो इस प्रकार हैं-

किसान का भू-स्वामित्व प्रमाण पत्र

स्थाई निवासी प्रमाण पत्र

लाभार्थी के पास सिंचाई के साधन के दस्तावेज

आधार कार्ड एवं आधार लिंक मोबाइल नंबर

बैंक पास बुक की कॉपी

आवेदक की पासपोर्ट साइज फोटो

लघु, सीमांत, अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति का प्रमाण पत्र, यदि लागू होता है।  

यूपी में भी ड्रैगन फ्रूट की खेती पर किसानों को मिल रही सब्सिडी

यूपी में एकीकृत बागवानी विकास मिशन परियोजना के तहत जिले ने 2 हेक्टेयर भूमि पर ड्रैगन फ्रूट की खेती का लक्ष्य रखा है. इसके लिए किसानों को कुल लागत का 50 फीसदी यानी ढाई लाख रुपये की सब्सिडी दी जाएगी. साथ ही 8 हेक्टेयर भूमि पर अमरूद, 10 हेक्टेयर में आम और 4 हेक्टेयर में गेंदा लगाने का लक्ष्य रखा गया है. इसके लिए किसानों को ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा, इसके लिए किसान संबंधित विभाग से संपर्क कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Back to top button