MP News

Singrauli : भ्रष्ट्राचार की मलाई नहीं छोड़ी जा रही स्मार्ट चिप कंपनी से, स्थानांतरण नीति बना मजाक

Singrauli : The smart chip company is not leaving the cream of corruption, the transfer policy became a joke

Singrauli : The smart chip company is not leaving – मामला सिंगरौली आरटीओ के सुपरवाईजर सुरेन्द्र कुशवाहा को संभाग से बाहर स्थानांतरित किये जाने के आदेश की अवहेलना का. Singrauli

सिंगरौली 24 जून – परिवहन आयुक्त ग्वालियर ने 12 मई को डीएसएचआरडी मानवाधिकार सिंगरौली के प्रदेश अध्यक्ष उमाकांत मिश्रा की शिकायत पर संज्ञान लेते हुए पत्र जारी कर स्मार्ट चिप कंपनी को आदेशित किया था. कि सुरेन्द्र कुशवाहा जिला कार्यालय में पदस्थ हैं उनका स्थानांतरण संभाग के बाहर 10 दिवस के अंदर करते हुए पालन प्रतिवेदन भेज परिवहन आयुक्त कार्यालय को अवगत करायें. लेकिन आज तक परिवहन आयुक्त के निर्देश का पालन नहीं किया गया है. Singrauli 
Singrauli : भ्रष्ट्राचार की मलाई नहीं छोड़ी जा रही स्मार्ट चिप कंपनी से, स्थानांतरण नीति बना मजाक
photo by google
जानकारी के मुताबिक डीएसएचआरडी मानवाधिकार सिंगरौली के प्रदेश अध्यक्ष उमाकांत मिश्रा की शिकायत पर संज्ञान लेते हुए परिवहन आयुक्त के निर्देशों का पालन न करने का आरोप लगाते हुए श्री मिश्रा ने बताया कि सुरेंद्र कुशवाहा जो जिला परिवहन कार्यालय सिंगरौली में पदस्थ हैं उनका स्थानांतरण संभाग के बाहर 10 दिवस के अंदर करके पालन प्रतिवेदन भेजा जाए.
परंतु जब से जिला परिवहन कार्यालय सिंगरौली स्थापित हुआ है, तब से आज तक सुरेंद्र कुशवाहा जिला परिवहन कार्यालय में स्मार्ट चिप कंपनी के कर्मचारी के रूप में कार्यरत हैं और उनके विरूद्ध डीएसएचआरडी मानवाधिकार द्वारा भ्रष्ट्राचार के गंभीर आरोप लगाए जा कर तथ्यात्मक शिकायत जिला परिवहन आयुक्त, कलेक्टर सिंगरौली, लोकायुक्त एवं आर्थिक अपराध ब्यूरो मध्यप्रदेश में की गई थी.

 Also Read – OMG! ऐश्वर्या राय छोटी उम्र में 1 बेटे की बन चुकी हैं मां! बेटा ने किया खुलासा  

Singrauli : भ्रष्ट्राचार की मलाई नहीं छोड़ी जा रही स्मार्ट चिप कंपनी से, स्थानांतरण नीति बना मजाक
photo by google

जिस पर संज्ञान लिया जाकर परिवहन आयुक्त ग्वालियर द्वारा 12 मई 2022 को पत्र क्र. 2589 सीका बि/लोका -61 /टीसी/2022 जारी कर सुरेंद्र कुशवाहा को स्थानांतरित  किए जाने का आदेश किया गया था, परंतु स्मार्ट चिप कंपनी के प्रदेश संचालक मनिमंन्त सिंह राठौर एवं वैभव खुजनेरी की कृपा दृष्टि आरोपी सुपरवाइजर पर निरंतर बनी हुई है.

क्योंकि इन 10 वर्षों में भ्रष्ट्राचार की मोटी कमाई का अनुपातिक हिस्सा स्मार्ट चिप कंपनी के प्रदेश संचालकों को भी जाता है जिस मलाई के स्वाद को वह कतई भूलना नहीं चाह रहे हैं. इसीलिए परिवहन आयुक्त द्वारा किए गए इतने सख्त आदेश का भी पालन अभी तक स्मार्ट चिप कंपनी द्वारा नहीं किया गया है. Singrauli

प्रदेश अध्यक्ष उमाकांत मिश्रा द्वारा बताया गया की मेरे द्वारा की गई तथ्यात्मक शिकायत की जांच अभी भी लोकायुक्त में लंबित है जिसे यहां रहकर सुरेंद्र कुशवाहा निरंतर प्रभावित कर रहे हैं. साक्ष्यों को नष्ट कर रहे एवं लोगों पर अनर्गल दबाव बना रहे हैं इनका  स्थानांतरण संभाग के बाहर होने पर ही शिकायत की सही जांच हो सकती है और इन पूर्व के 10 वर्षों में किए गए भ्रष्ट्राचार एवं जिला परिवहन कार्यालय सिंगरौली में शासन के बड़े राजस्व चोरी का मामला उजागर होगा. Singrauli

Back to top button

Adblock Detected

please dezctivate Adblocker