एक महिला सहित 46 कैदी पैरोल पर रिहा,कोरोना होने के भय से लिया गया निर्णय,खबर देखें, - विंध्य न्यूज़

राजगढ़ — कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर सरकार की ओर से पांच वर्ष से कम की सजा वाले कैदियों को पैरोल पर छोड़ा जा रहा है। सोमवार को रायगढ़ जिले के 46 कैदियों को पैरोल में छोड़ा गया। जिले के सभी कैदियों को सुरक्षा व्यवस्था के बीच चिकित्सकीय जांच के बाद पुलिस ने उन्हें वाहन में बैठाकर गंतव्य के लिए रवाना कर दिया। दरअसल राजगढ़ जेल में विभिन्न अपराधों के तहत बंद 46 कैदियों को सोमवार के दिन पैरोल पर छोड़ा गया। पैरोल को लेकर जिला जेल से 54 कैदियों ने अपने आवेदन दिए थे। इनमें से कुछ कैदी ऐसे थे जिनके अपराध गंभीर होने के कारण उन्हें फिलहाल नहीं छोड़ा गया है लेकिन 5 साल तक की सजा वाले अपराधों में विचाराधीन एक महिला सहित 46 कैदियों को 45 दिन के पैरोल पर छोड़ा गया है। कैदियों को भी इसकी उम्मीद नहीं थी इतनी बड़ी संख्या में उन्हें छोड़ा जा सकता है। कैदियों को छोड़ने के दौरान कोरोना वायरस के संकट के चलते सोशल डिस्टेंस का ख्याल रखा गया। किसी भी कैदी के परिजन जेल में नहीं पहुंचे क्योंकि यह एक दिन में लिया गया निर्णय है और परिजनों को भी यहां आने  की सख्त हिदायत दी गई थी। 
कैदियों को घर तक छोड़ेगी बस
कैदियों को जिला जेल से घर छोड़ने के लिए  बस का इंतजाम किया गया था । 46 कैदियों को छोड़ने के लिए तीन बसें लगाई गई ताकि कोई भी कैदी एक साथ ना बैठे जिससे सोशल डिस्टेंस बना रहे। रिहा हुए कैदियों को राजगढ़ जिला सहित शाजापुर,गुना और राजस्थान तक छोड़ने के लिए बसें जा रही हैं ताकि रास्ते में कोई उन्हें परेशान ना करें और वह घर तक सुरक्षित पहुंचे।जेल अधीक्षक विकास सिंह ने कैदियों को सीख देते हुए कहा कि लाख डाउन का पूरी तरह से पालन करेंगे और घर पर ही रह कर समय बिताएंगे। कैदियों ने भी जेल प्रबंधन को आश्वासन दिया कि वे इस दौरान पूरे समय परिवार के साथ रहेंगे और समय पूरा होने के बाद वापस जेल में आमद देंगे।