गरीबों के भोजन के लिए मासूम ने फोड़ दी गुल्लक,खबर देखें, - विंध्य न्यूज़

डिंडोरी – बच्चे मन के सच्चे सारी जग के आँख के तारे….यह लाइन रचनाकार साहिर लुधियानवी की 6 वर्षीय मासूम कनिका के लिए सटीक बैठती है जी हां देशभर में कोरोना कहर से जहां गरीबों को दो वक्त का भोजन नसीब नहीं हो रहा है यह बात सुनकर मासूम कनिका द्रवित हो उठी और उसने गुल्लक लेकर लाक डाउन में फंसे हुए गरीब बेसहारा लोगों के भोजन के लिए दान देने थाना पहुंच गई दरअसल नगर की एक मासूम बच्ची कनिका ने अपनी गुल्लक में जमा किए गए रुपयों को कोरोना वायरस के चलते लॉक डाउन में फसे गरीब बेसहारा लोगों के भोजन के लिए दान में दे दिए। रानी अवंती बाई चौक में ड्यूटी में तैनात पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों के बीच अपने पिता के साथ एक नन्ही बच्ची आई और यह कहकर अपनी गुल्लक एसडीओपी रवि प्रकाश के हाथों में सौंप दी कि इसे गरीबों के भोजन के लिए ले लीजिए। नन्ही बच्ची की सहृदयता ने उपस्थित सभी अधिकारी और कर्मचारियों का मन मोह लिया। सभी के सामने गुल्लक को फोड़ कर उसमें रखे रुपयों को गिना गया जिसमें 3750 रुपए निकले। अनुविभागीय अधिकारी पुलिस रवि प्रकाश एवं  डिंडोरी तहसीलदार बिसन सिंह ठाकुर ड्यूटी पर तैनात उपनिरीक्षक अखिलेश दहिया ने बच्ची को एक गुड़िया (बेबी डॉल) बतौर प्रोत्साहन भेंट की। बच्चों की भावना देख उनकी यह राशि स्वीकार कर ली है। श्री रवि प्रकाश ने बच्चों के बारे में कहा, ‘‘ मैं इनका जज़्बा देखकर अभिभूत हूं। कोरोना के खिलाफ जंग में आज इन दो मासूम बच्चों ने मदद का हाथ बढ़ाकर पूरे देश को लड़ने का जज़्बा दिया है। हम इनके हौंसले को दिल से सलाम करते हैं।बता दें कि यह नन्ही बच्ची कनिका जैन नगर के युवा व्यवसाई आशीष जैन की सुपुत्री हैं। जिसने लॉक डाउन में फसे पीड़ितों के लिए अपनी गुल्लक फोड़ कर गरीबों की मदद की है और समाज को लोगो की मदद के लिए आगे आने का संदेश दिया है।