कांग्रेस के 22 MLA का इस्तीफा,स्पीकर बोले- नियम के तहत होगी कार्रवाई - विंध्य न्यूज़

कांग्रेस के 22 MLA का इस्तीफा,स्पीकर बोले- नियम के तहत होगी कार्रवाई

ज्योतिरादित्य से दिग्विजय व भूरिया बना रहे दूरी,इस्तीफे से पहले पीएम मोदी से साथ सिंधिया की बैठक

नई दिल्ली—सिंधिया के पाले में आते ही बीजेपी ने सरकार बनाने की तैयारी शुरू कर दी है. बीजेपी की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद बीजेपी नेताओं की बैठक में मध्य प्रदेश की सियासत पर भी चर्चा हुई.दिल्ली में पीएम मोदी और शाह से सिंधिया की बैठक बैठक के बाद सिंधिया ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा र्नमध्य प्रदेश के राज परिवार से आने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपनी ही पार्टी यानी कांग्रेस को सबसे बड़ा झटका दिया है . मुख्यमंत्री कमलनाथ से नाराज चल रहे सिंधिया ने मंगलवार को कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया. सिंधिया ने खुद ट्वीट कर अपने इस्तीफे की जानकारी दी है. सिंधिया के इस्तीफे के बाद उनके खेमे के 22 कांग्रेस विधायकों ने भी इस्तीफा दे दिया है. बिसाहू लाल सिंह ने तो विधायक पद से इस्तीफा देने के साथ ही कांग्रेस पार्टी भी छोड़ दी है और वह बीजेपी में शामिल हो गए हैं. विधायकों के इस्तीफे के बाद बीजेपी नेताओं ने विधानसभा स्पीकर से मुलाकात की.
भाजपा के प्रतिनिधिमंडल ने विधायकों के इस्तीफे की मूल कॉपी विधान सभा अध्यक्ष एन.पी. प्रजापति को सौंपी. भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह कांग्रेस के 19 विधायकों के इस्तीफों की मूल प्रतियां लेकर भोपाल पहुंचे थे. भूपेंद्र सिंह ने अन्य भाजपा नेताओं नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, बृजेंद्र सिंह के साथ विधान सभाध्यक्ष एन.पी. प्रजापति के आवास पर पहुंचकर विधायकों के इस्तीफे की मूल प्रति सौंपी.
इस्तीफे देने वाले 22 विधायकों में 6 मंत्री भी शामिल हैं. ये विधायक कर्नाटक में हैं और वहीं से बाकायदा एक तस्वीर भी जारी की गई है.
सपा-बसपा विधायकों का भी बीजेपी को समर्थन !
बीजेपी और समाजवादी पार्टी के एक-एक विधायक भी बीजेपी को समर्थन दे सकते हैं. बीएसपी के विधायक संजीव कुशवाहा और सपा विधायक राजेश शुक्ला शिवराज सिंह चौहान से मिलने उनके घर पहुंचे हैं. हालांकि, इस मुलाकात को शिवराज सिंह चौहान ने होली से जोड़कर बताया है. शिवराज सिंह ने कहा है कि वो सिर्फ होली के अवसर पर मुलाकात करने आए थे, इसमें कोई राजनीति नहीं है.

ज्योतिरादित्य से दिग्विजय व भूरिया बना रहे दूरी
दूसरी तरफ सिंधिया के इस्तीफे ने कांग्रेस में हलचल पैदा कर दी है. सिंधिया के इस फैसले को कांग्रेस ने गद्दारी बताया है. लोकसभा में नेता विपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि अब मध्य प्रदेश में हमारी सरकार नहीं बच पाएगी. हालांकि, एमपी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह व कांतिलाल भूरिया को अब भी पूरा भरोसा है कि सरकार  गिराने की हिम्मत और ताकत सिन्धिया में नहीं हैं। सिंधिया के इस्तीफे के बीच कांतिलाल ने भोपाल में मुख्यमंत्री कमलनाथ से मुलाकात की.मुलाकात के भूरिया ने भरोसा जताया कि कांग्रेस सरकार मजबूत है और यह चलती रहेगी. उन्होंने कहा कि किसी के कहने से सरकार नहीं गिरेगी, हमारे पास पर्याप्त संख्या है. 
इस्तीफे से पहले पीएम मोदी से साथ सिंधिया की बैठक
वहीं, इस्तीफा देने से पहले सिंधिया दिल्ली में मंगलवार सुबह अपने आवास से निकलकर सीधे गृहमंत्री अमित शाह से मिलने पहुंचे और इसके बाद शाह के साथ ही वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास पहुंच गए. पीएम के आवास पर सिंधिया की बैठक सुबह 10.45 बजे शुरू हुई.करीब एक घंटे तक पीएम नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच बैठक चली. पीएम मोदी से मुलाकात के बाद सिंधिया अमित शाह की कार में बैठकर ही बाहर निकले. पीएम मोदी से मुलाकात के बाद ही ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया.सिंधिया ने अपना इस्तीफा पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजने के साथ ही इसे अपने ट्विटर हैंडल पर भी साझा किया है. सिंधिया ने इस इस्तीफे में कहा है कि वे जनसेवा के लिए राजनीति में आए हैं और बीते कुछ समय से कांग्रेस में रहते हुए ऐसा नहीं कर पा रहे थे.
विधानसभा का गणित
मध्य प्रदेश में 230 विधानसभा सीटें हैं. यहां 2 विधायकों का निधन हो गया है. इस तरह से विधानसभा की मौजूदा शक्ति 228 हो गई है. कांग्रेस के पास कुल 121 विधायकों का समर्थन हासिल था, जिनमें से 22 ने इस्तीफे दे दिए हैं. यानी अब कांग्रेस के पास 99 विधायकों का ही समर्थन रह गया है. जबकि बीजेपी के पास अपने 107 विधायक हैं.22 विधायकों के इस्तीफे के बाद विधानसभा की संख्या 206 रह जाएगी, जिसके लिहाज से बहुमत के लिए 104 विधायकों की जरूरत होगी. ऐसे में ताजा आंकड़ों के हिसाब से बीजेपी कांग्रेस से आगे है और उसके पास सरकार बनाने का मौका दिखाई दे रहा है. हालांकि, विधानसभा अध्यक्ष एन.पी. प्रजापति ने कहा है कि वो नियमों के हिसाब से ही आगे की कार्रवाई करेंगे.

000000000
इन 22 कांग्रेस विधायकों ने दिया इस्तीफा
1- प्रदुम्न सिंह तोमर
2- रघुराज कंसाना
3- कमलेश जाटव
4- रक्षा संत्राव, भांडेर
5- जजपाल सिंह जज्जी
6- इमरती देवी
7- प्रभुराम चौधरी
8- तुलसी सिलावट
9- सुरेश धाकड़
10- महेंद्र सिंह सिसोदिया
11- ओपी एस भदौरिया
12- रणवीर जाटव
13- गिरराज दंडोतिया
14- जसवंत जाटव
15- गोविंद राजपूत
16- हरदीप डंग
17- मुन्ना लाल गोयल
18- ब्रिजेंद्र यादव
19- मोहन सिंह राठौड़
20-बिसाहू लाल सिंह
21-ऐदल सिंह कसाना
22- मनोज चौधरी
विधानसभा अध्यक्ष को सौंपे गए 19 के इस्तीफे
इन 22 में से 19 विधायकों के इस्तीफे की मूल कॉपी भाजपा के प्रतिनिधिमंडल ने विधानसभा स्पीकर को सौंप दी है. भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह कांग्रेस के 19 विधायकों के इस्तीफों की मूल प्रतियां लेकर भोपाल पहुंचे थे. भूपेंद्र सिंह ने अन्य भाजपा नेताओं नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, बृजेंद्र सिंह के साथ विधानसभाध्यक्ष एन.पी. प्रजापति के आवास पर पहुंचकर विधायकों के इस्तीफे की मूल प्रति सौंपी.
भूपेंद्र सिंह ने बताया कि मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी, तुलसी सिलावट, प्रभुराम चौधरी, महेंद्र सिंह सिसौदिया के अलावा विधायक हरदीप सिंह डंग, जसपाल सिंह जज्जी, राजवर्धन सिंह, ओपीएस भदौरिया, मुन्ना लाल गोयल, रघुराज सिंह कंसाना, कमलेश जाटव, बृजेंद्र सिंह यादव, सुरेश धाकड़, गिरराज दंडौतिया, रक्षा संतराम सिरौनिया, रणवीर जाटव, जसवंत जाटव के इस्तीफे दिए हैं. इन विधायकों के त्यागपत्र में उनके हस्ताक्षर हैं. उन्होंने बताया कि कांग्रेस के कुछ और विधायक दे सकते हैं.0000000
aajtak  कांग्रेस के 22 MLA का इस्तीफा,स्पीकर बोले- नियम के तहत होगी कार्रवाई
ज्योतिरादित्य से दिग्विजय व भूरिया बना रहे दूरी,इस्तीफे से पहले पीएम मोदी से साथ सिंधिया की बैठक

नई दिल्ली—सिंधिया के पाले में आते ही बीजेपी ने सरकार बनाने की तैयारी शुरू कर दी है. बीजेपी की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद बीजेपी नेताओं की बैठक में मध्य प्रदेश की सियासत पर भी चर्चा हुई.दिल्ली में पीएम मोदी और शाह से सिंधिया की बैठक बैठक के बाद सिंधिया ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा र्नमध्य प्रदेश के राज परिवार से आने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपनी ही पार्टी यानी कांग्रेस को सबसे बड़ा झटका दिया है . मुख्यमंत्री कमलनाथ से नाराज चल रहे सिंधिया ने मंगलवार को कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया. सिंधिया ने खुद ट्वीट कर अपने इस्तीफे की जानकारी दी है. सिंधिया के इस्तीफे के बाद उनके खेमे के 22 कांग्रेस विधायकों ने भी इस्तीफा दे दिया है. बिसाहू लाल सिंह ने तो विधायक पद से इस्तीफा देने के साथ ही कांग्रेस पार्टी भी छोड़ दी है और वह बीजेपी में शामिल हो गए हैं. विधायकों के इस्तीफे के बाद बीजेपी नेताओं ने विधानसभा स्पीकर से मुलाकात की.भाजपा के प्रतिनिधिमंडल ने विधायकों के इस्तीफे की मूल कॉपी विधान सभा अध्यक्ष एन.पी. प्रजापति को सौंपी. भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह कांग्रेस के 19 विधायकों के इस्तीफों की मूल प्रतियां लेकर भोपाल पहुंचे थे. भूपेंद्र सिंह ने अन्य भाजपा नेताओं नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, बृजेंद्र सिंह के साथ विधान सभाध्यक्ष एन.पी. प्रजापति के आवास पर पहुंचकर विधायकों के इस्तीफे की मूल प्रति सौंपी.
इस्तीफे देने वाले 22 विधायकों में 6 मंत्री भी शामिल हैं. ये विधायक कर्नाटक में हैं और वहीं से बाकायदा एक तस्वीर भी जारी की गई है.
सपा-बसपा विधायकों का भी बीजेपी को समर्थन !
बीजेपी और समाजवादी पार्टी के एक-एक विधायक भी बीजेपी को समर्थन दे सकते हैं. बीएसपी के विधायक संजीव कुशवाहा और सपा विधायक राजेश शुक्ला शिवराज सिंह चौहान से मिलने उनके घर पहुंचे हैं. हालांकि, इस मुलाकात को शिवराज सिंह चौहान ने होली से जोड़कर बताया है. शिवराज सिंह ने कहा है कि वो सिर्फ होली के अवसर पर मुलाकात करने आए थे, इसमें कोई राजनीति नहीं है.

ज्योतिरादित्य से दिग्विजय व भूरिया बना रहे दूरी
दूसरी तरफ सिंधिया के इस्तीफे ने कांग्रेस में हलचल पैदा कर दी है. सिंधिया के इस फैसले को कांग्रेस ने गद्दारी बताया है. लोकसभा में नेता विपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि अब मध्य प्रदेश में हमारी सरकार नहीं बच पाएगी. हालांकि, एमपी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह व कांतिलाल भूरिया को अब भी पूरा भरोसा है कि सरकार  गिराने की हिम्मत और ताकत सिन्धिया में नहीं हैं। सिंधिया के इस्तीफे के बीच कांतिलाल ने भोपाल में मुख्यमंत्री कमलनाथ से मुलाकात की.मुलाकात के भूरिया ने भरोसा जताया कि कांग्रेस सरकार मजबूत है और यह चलती रहेगी. उन्होंने कहा कि किसी के कहने से सरकार नहीं गिरेगी, हमारे पास पर्याप्त संख्या है. 
इस्तीफे से पहले पीएम मोदी से साथ सिंधिया की बैठक
वहीं, इस्तीफा देने से पहले सिंधिया दिल्ली में मंगलवार सुबह अपने आवास से निकलकर सीधे गृहमंत्री अमित शाह से मिलने पहुंचे और इसके बाद शाह के साथ ही वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास पहुंच गए. पीएम के आवास पर सिंधिया की बैठक सुबह 10.45 बजे शुरू हुई.करीब एक घंटे तक पीएम नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच बैठक चली. पीएम मोदी से मुलाकात के बाद सिंधिया अमित शाह की कार में बैठकर ही बाहर निकले. पीएम मोदी से मुलाकात के बाद ही ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया.सिंधिया ने अपना इस्तीफा पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजने के साथ ही इसे अपने ट्विटर हैंडल पर भी साझा किया है. सिंधिया ने इस इस्तीफे में कहा है कि वे जनसेवा के लिए राजनीति में आए हैं और बीते कुछ समय से कांग्रेस में रहते हुए ऐसा नहीं कर पा रहे थे.
विधानसभा का गणित
मध्य प्रदेश में 230 विधानसभा सीटें हैं. यहां 2 विधायकों का निधन हो गया है. इस तरह से विधानसभा की मौजूदा शक्ति 228 हो गई है. कांग्रेस के पास कुल 121 विधायकों का समर्थन हासिल था, जिनमें से 22 ने इस्तीफे दे दिए हैं. यानी अब कांग्रेस के पास 99 विधायकों का ही समर्थन रह गया है. जबकि बीजेपी के पास अपने 107 विधायक हैं.22 विधायकों के इस्तीफे के बाद विधानसभा की संख्या 206 रह जाएगी, जिसके लिहाज से बहुमत के लिए 104 विधायकों की जरूरत होगी. ऐसे में ताजा आंकड़ों के हिसाब से बीजेपी कांग्रेस से आगे है और उसके पास सरकार बनाने का मौका दिखाई दे रहा है. हालांकि, विधानसभा अध्यक्ष एन.पी. प्रजापति ने कहा है कि वो नियमों के हिसाब से ही आगे की कार्रवाई करेंगे.

000000000
इन 22 कांग्रेस विधायकों ने दिया इस्तीफा
1- प्रदुम्न सिंह तोमर
2- रघुराज कंसाना
3- कमलेश जाटव
4- रक्षा संत्राव, भांडेर
5- जजपाल सिंह जज्जी
6- इमरती देवी
7- प्रभुराम चौधरी
8- तुलसी सिलावट
9- सुरेश धाकड़
10- महेंद्र सिंह सिसोदिया
11- ओपी एस भदौरिया
12- रणवीर जाटव
13- गिरराज दंडोतिया
14- जसवंत जाटव
15- गोविंद राजपूत
16- हरदीप डंग
17- मुन्ना लाल गोयल
18- ब्रिजेंद्र यादव
19- मोहन सिंह राठौड़
20-बिसाहू लाल सिंह
21-ऐदल सिंह कसाना
22- मनोज चौधरी
विधानसभा अध्यक्ष को सौंपे गए 19 के इस्तीफे
इन 22 में से 19 विधायकों के इस्तीफे की मूल कॉपी भाजपा के प्रतिनिधिमंडल ने विधानसभा स्पीकर को सौंप दी है. भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह कांग्रेस के 19 विधायकों के इस्तीफों की मूल प्रतियां लेकर भोपाल पहुंचे थे. भूपेंद्र सिंह ने अन्य भाजपा नेताओं नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, बृजेंद्र सिंह के साथ विधानसभाध्यक्ष एन.पी. प्रजापति के आवास पर पहुंचकर विधायकों के इस्तीफे की मूल प्रति सौंपी.
भूपेंद्र सिंह ने बताया कि मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी, तुलसी सिलावट, प्रभुराम चौधरी, महेंद्र सिंह सिसौदिया के अलावा विधायक हरदीप सिंह डंग, जसपाल सिंह जज्जी, राजवर्धन सिंह, ओपीएस भदौरिया, मुन्ना लाल गोयल, रघुराज सिंह कंसाना, कमलेश जाटव, बृजेंद्र सिंह यादव, सुरेश धाकड़, गिरराज दंडौतिया, रक्षा संतराम सिरौनिया, रणवीर जाटव, जसवंत जाटव के इस्तीफे दिए हैं. इन विधायकों के त्यागपत्र में उनके हस्ताक्षर हैं. उन्होंने बताया कि कांग्रेस के कुछ और विधायक दे सकते हैं.