राष्ट्रीय

500 रुपये लेकर अंबानी पहुंचे थे मुंबई,बनाई 93.8 अरब की है सम्पति! एशिया के सबसे अमीर शख्स का ऐसा रहा सफर

धीरूभाई अंबानी ने अपने दो बेटों अनिल अंबानी और मुकेश अंबानी के साथ अपने सपने को साकार किया। आज मुकेश अंबानी 62 साल के हो गए हैं। ऐसे में हम आपको इससे जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें बताने जा रहे हैं।

भारत में हर कोई अंबानी परिवार जैसा जीवन चाहता है। हर कोई इंतजार कर रहा है कि उसकी किस्मत कब खुलेगी और वह मील का पत्थर हासिल कर लेगा। कई लोगों का कहना है कि मुकेश अंबानी को यह दौलत विरासत में मिली है। लेकिन यह आधा सच है कि मुकेश अंबानी को अपने पिता धीरूभाई अंबानी से कुछ मिला, तो यही सफलता की कुंजी है। धीरूभाई अंबानी ने अपने दो बेटों अनिल अंबानी और मुकेश अंबानी के साथ अपने सपने को साकार किया। आज मुकेश अंबानी 62 साल के हो गए हैं। ऐसे में हम आपको इससे जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें बताने जा रहे हैं।

इस कदम ने बदल दी अंबानी की किस्मत

धीरूभाई अंबानी जब गुजरात से मुंबई आए तो उनके पास सिर्फ 500 रुपए थे। 500 रुपये और अपनी समझ से वह करोड़पति बन गये। 1966 में, अंबानी ने नरोदा में अपनी पहली कपड़ा मिल स्थापित की। इस मैच ने बदल दी अंबानी की किस्मत। सिर्फ एक साल और दो महीने में अंबानी ने 10,000 टन पॉलिएस्टर यार्न का उत्पादन करके विश्व रिकॉर्ड बनाया। इस धागे के बाद, धीरूभाई अंबानी ने बिमल नाम से अपना खुद का ब्रांड लॉन्च किया। धीरूभाई अंबानी की कंपनी 1976 में 70 करोड़ रुपये मूल्य की थी, जो 2002 में 75,000 करोड़ रुपये में बदल गई। रिलायंस पहली भारतीय डिजिटल कंपनी बनी।

पिता के कहने पर मुकेश अंबानी छोड़ा स्कूल

केमिकल इंजीनियरिंग में बीए की डिग्री हासिल करने के बाद मुकेश अंबानी स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से एमबीए करना चाहते थे। लेकिन उनके पिता धीरूभाई अंबानी ने उनकी पढ़ाई बाधित कर दी और उन्हें अपने साथ काम करने के लिए बुलाया। फिर 1981 में मुकेश ने अपने पिता के साथ मिलकर रिलायंस पेट्रोलियम केमिकल्स की शुरुआत की। मुकेश ने बाद में रिलायंस इन्फोकॉम लिमिटेड की स्थापना की, जिसे अब रिलायंस कम्युनिकेशंस लिमिटेड के नाम से जाना जाता है।

पास 93 अरब की संपत्ति है!

उसके बाद अंबानी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और वह आगे बढ़ते गए। 500 रुपये से शुरुआत करने वाले अंबानी की आज कुल संपत्ति करीब 93.8 अरब डॉलर है। मुकेश अंबानी का मानना है कि बड़े सपने बड़ी सफलता लाते हैं। अंबानी कहते हैं कि सपनों को ऊंचा करो और जब तक वे पूरे न हों तब तक उम्मीद मत छोड़ो।

Back to top button