राष्ट्रीय

IAS Officer Emotional Story सर से पिता का उठा साया,स्कूल की फीस देने साइकिल रिपेयरिंग का किया काम फिर बना IAS

IAS Officer Emotional Story The shadow of the father raised from the head, the work of repairing bicycles paying school fees became IAS again

IAS Officer Emotional Story : मन में दृढ़ संकल्प और सच्ची लगन हो तो फिर हर मुश्किल आसान हो जाती है कुछ ऐसा ही दिखा महाराष्ट्र के बोईसर के रहने वाले वरुण बरनवाल के साथ इनका जीवन एक कठिन दौर से गुजरा मुफलिसी में पढ़ाई की और फिर अब आईएएस बनकर न केवल गांव का बल्कि पूरे प्रदेश का नाम रोशन किया है

आर्थिक तंगी, पिता की मृत्यु के बाद पारिवारिक जिम्मेदारियों का बोझ.

आईएएस IAS अफसर के संघर्ष की कहानी स्कूल मेंसाइकिल रिपेयर करने वाले के आईएएस IAS अफसर बनने की कहानी सोशल मीडिया( social media) पर सुर्खियां बटोर रही है. जिस व्यक्ति के पास कॉलेज में प्रवेश के लिए कभी पैसे नहीं थे, परिवार आर्थिक तंगी से गुजर रहा था, एक दिन अपनी मेहनत और लगन से यूपीएससी की परीक्षा पास की और आईएएस बन गया.

नशे में टल्ली Poonam Pandey का नाइट क्लब का वीडियो हुआ वायरल,1 पल के लिए दिखा दी अपना प्राइवेट पार्ट
IAS Officer Emotional Story सर से पिता का उठा साया,स्कूल की फीस देने साइकिल रिपेयरिंग का किया काम फिर बना IAS
photo by google

फीस देने के लिए नहीं थे पैसे ,संघर्षों से आईएएस बने.

मुश्किल हालात से लड़ते हुए सफलता लिखने वाले इस शख्स का नाम वरुण कुमार बरनवाल (IAS वरुणकुमार बरनवाल) है. हाल ही में आईएएस वरुण ने एक यूट्यूब चैनल पर अपनी प्रेरणादायक कहानी साझा की.

महाराष्ट्र के बोईसर के रहने वाले वरुण बरनवाल शिक्षा के मामले में हमेशा सबसे आगे रहे हैं. वरुण के पिता की साइकिल मरम्मत की दुकान थी. इस दुकान से होने वाली आय ही बच्चों की पढ़ाई के साथ-साथ घर का खर्चा चलाने के लिए काफी थी। लेकिन कहानी में एक दुखद मोड़ तब आया जब 10वीं की परीक्षा खत्म होने के चार दिन बाद ही वरुण के पिता का निधन हो गया.

एक है आर्थिक तंगी, पिता के गुजर जाने के बाद पारिवारिक जिम्मेदारियों का बोझ। हालांकि वरुण ने 10वीं में टॉप किया लेकिन पिता की मौत के बाद वह पूरी तरह टूट गए. उन्होंने अपनी पढ़ाई छोड़ दी और दुकान संभालने का फैसला किया. लेकिन परिवार के कहने पर उसने पढ़ाई जारी रखी. कॉलेज में प्रवेश लेने में हो रही परेशानी. IAS

लेकिन उनके पास कॉलेज में दाखिले के लिए 10 हजार रुपए भी नहीं थे. फिर एक दिन पिता का इलाज करने वाले डॉक्टर ने वरुण के प्रवेश के लिए खुद भुगतान किया, जिसके बाद वरुण ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। उन्होंने एक के बाद एक परीक्षा में टॉप किया.

पढ़ाई के साथ-साथ वे अपनी साइकिल की दुकान भी चलाते थे. स्कूल से लौटने के बाद वह दुकान पर साइकिल की मरम्मत करते और जो भी पैसा मिलता उससे परिवार का भरण-पोषण करते। उनकी बड़ी बहन ने भी ट्यूशन पढ़ाना शुरू किया.

वरुण का कहना है कि कई बार उन्हें पैसों की कमी से जूझना पड़ा. वह स्कूल फीस के 650 रुपये प्रति माह भी नहीं जुटा सके। इसलिए उन्होंने ट्यूशन करना शुरू कर दिया. वह दिन में स्कूल जाता था, फिर ट्यूशन पढ़ाता था और दुकान का हिसाब-किताब भी देखता था. इतने संघर्षों के बाद भी वरुण ने कभी हार नहीं मानी. IAS

Madhu Sharma का dirty video हुआ वायरल, लोगों ने कहा- टूटा Shilpi Raj का रिकॉर्ड! देखें विडियो

IAS Officer Emotional Story सर से पिता का उठा साया,स्कूल की फीस देने साइकिल रिपेयरिंग का किया काम फिर बना IAS
photo by google

टीचर्स और दोस्तों ने एक साथ चुकाई फीस

बाद में उन्होंने इंजीनियरिंग कॉलेज (engineering college) में प्रवेश लिया। यहां भी पैसों की कमी थी। हालांकि, जब उन्होंने कॉलेज में टॉप किया तो उन्हें स्कॉलरशिप मिली और चीजें थोड़ी बेहतर हुईं. लेकिन एक बार इस दौरान शिक्षकों और दोस्तों ने मिलकर उनकी फीस अदा की। वह किताबें भी ले आया.

इंजीनियरिंग के बाद उन्होंने नौकरी शुरू की। लेकिन इसी बीच वरुण ने सिविल सर्विसेज में जाने का फैसला किया। इसलिए उन्होंने एक कोचिंग क्लास ज्वाइन (choching class join)की और यूपीएससी (upsc) की तैयारी करने लगे। साल 2013 में वरुण ने सिविल सर्विस परीक्षा में 32वां रैंक हासिल किया था.

पहले ही प्रयास में उन्होंने यूपीएससी (upsc) की परीक्षा पास की। आईएएस(IAS) वरुण का कहना है कि उन्होंने यूपीएससी कोचिंग के लिए एक पैसा भी नहीं दिया. उसकी आर्थिक स्थिति देखकर शिक्षकों ने भी उसे फीस भरने के लिए बाध्य नहीं किया. वर्तमान में वरुण कुमार बरनवाल गुजरात में IAS के पद पर तैनात हैं.

Salman Khan के कई लड़कियों से रहे संबंध फिर भी नही हो पाई शादी, अब पिता सलीम खान ने सच्चाई से उठाया पर्दा

IAS Officer Emotional Story सर से पिता का उठा साया,स्कूल की फीस देने साइकिल रिपेयरिंग का किया काम फिर बना IAS
photo by google

Back to top button

Adblock Detected

please dezctivate Adblocker