IRCTC/Indian railways: टिकट बुकिंग और कैंसिलेशन के नियमों में बड़े बदलाव,जानिए रेलवे के नए दिशा निर्देश क्या है  - विंध्य न्यूज़

वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के चलते पिछले डेढ़ महीने से लॉकडाउन के कारण भारतीय रेल सेवा पूरी तरह से ठप्प पड़ी थी. करीब 50 दिनों के बाद रेल सेवा शुरु कर दी गई है। रेलवे विभाग ने कोरोना संक्रमण ना पहले इसके लिए पुख्ता इंतजाम कर लिए हैं, साथ ही आवश्यक ऐतिहात बरतने के दिशा निर्देश जारी किए गये हैं लेकिन इस दौरान इंडियन रेलवे ने टिकट बुकिंग और कैंसिल की नियमों में बदलाव किया है। रेलवे की घोषणा के अनुसार कई चलने वाली ट्रेन है राज्यों की राजधानी ताकि जाएंगी।लॉकडाउन के कारण 22 मार्च को यह घोषणा की थी कि भारत में रेल सेवा बंद की जा रही है. पहली बार रेल सेवा को 31 मार्च तक के लिए बंद किया गया था, लेकिन लॉकडाउन की अवधि बढ़ने के साथ-साथ रेल सेवा भी प्रभावित हुई और 11 मई तक रेल सेवा बंद रही.


रेलवे ने 22 मई से शुरू होने वाली वेटिंग लिस्ट के प्रावधान को पेश करते हुए न केवल अपनी वर्तमान में चलने वाली विशेष ट्रेनों बल्कि अपनी सभी आगामी सेवाओं पर भी एक आदेश जारी किया.रेल मंत्रालय ने बुधवार को पहले से बुक किए गए टिकटों को रद्द करने और किराया वापसी के लिए संशोधित दिशा-निर्देश जारी किए, और इसका प्रभाव 21 मार्च 2020 से लागू होगा.रेलवे ने कहा है कि जिन यात्रियों को कोरोना वायरस से जुड़े लक्षणों के कारण ट्रेनों में यात्रा करने से मना किया जाता है, उन्हें उनके टिकटों पर बिना कटौती किए पूरा रिफंड मिलेगा.

सभी यात्रियों की होगी स्क्रीनिंग इंडियन रेलवे कोविड-19 को लेकर हर जरूरी एहतियात बरत रही है यही वजह है कि यात्रा कर रहे सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग की जाएगी। गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, सभी यात्रियों की अनिवार्य रूप से जांच कराई जाएगी और केवल विषम यात्रियों को ट्रेन में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी.इससे पहले, रेलवे ने केवल पुष्टि किए गए ई-टिकट वाले यात्रियों को अनुमति देने का आदेश दिया था. टिकट चेकिंग स्टाफ द्वारा आरएसी / वेटिंग सूची टिकटों की बुकिंग और ट्रेन पर बुकिंग की अनुमति नहीं थी. 

कोविड-19 संक्रमित के लक्षण मिले तो नहीं मिलेगी यात्रा की अनुमति
यात्रा के दौरान यदि किसी यात्री की स्क्रीनिंग के दौरान कोविड -19 से संक्रमित होने के लक्षण दिखाई दिए तो उसे यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी. ऐसे में यात्री को टिकट के पूरे पैसे वापस किए जाएंगे.यह भी बताया गया है कि ग्रुप टिकट पर यदि एक यात्री यात्रा करने के लिए अयोग्य पाया जाता है और उसी पीएनआर पर अन्य सभी यात्री भी यात्रा नहीं करना चाहते हैं, तो उस स्थिति में सभी यात्रियों के लिए पूर्ण वापसी की अनुमति दी जाएगी.


नहीं होगा तत्काल या प्रीमियम तत्काल टिकट—श्रमिक व राजधानी स्पेशल चलाने के बाद अब रेलवे देशभर में मेल-एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेनें चलाने की तैयारी में है. रेल मंत्रालय ने इसके लिए बुधवार को बकायदा एक सर्कुलर जारी कर दिया है. इन गाड़ियों में वेटिंग टिकट भी काटा जायेगा, लेकिन तत्काल या प्रीमियम तत्काल टिकट नहीं होगा. यह ट्रेनें 22 मई से चलेंगी. इन ट्रेनों से यात्रा के लिए टिकट बुकिंग 15 मई से शुरू होगी. इनमें आइआरसीटीसी की वेबसाइट के जरिए ही बुकिंग होगी. रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इनमें शताब्दी स्पेशल और इंटर सिटी स्पेशल ट्रेन भी शामिल हो सकती है. इन गाड़ियों में आरएसी का टिकट नहीं काटा जायेगा.