UP कानपुर के सरकारी बालिका संरक्षण गृह में 57 लड़कियां मिलीं कोरोना पॉजिटिव,5 प्रेग्नेंट,मचा हड़कंप - विंध्य न्यूज़

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के कानपुर में कोरोना विस्फोट हुआ है। कानपुर में पिछले कुछ दिनों में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा देखने को मिला है। जी हां राज्य सरकार द्वारा संचालित बालिका संरक्षण गृह में रहने वाली 57 लड़कियां कोरोना पॉजिटिव पाई गई हैं। इन संक्रमित लड़कियों में 5 प्रेग्नेंट हैं. बालिका संरक्षण गृह को कोविड क्लस्टर कहा जा रहा है. कोविड-19 की पुष्टि होने के बाद 57 लड़कियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. संस्थान की जिन लड़कियां तथा स्टाफ में कोरोना के लक्षण नहीं मिले थे उन्हें क्वारेंटीन किया गया था तथा पूरी बिल्डिंग को सील करते हुए ट्रैवल हिस्ट्री व मिलने जुलने वालों की जानकारी इकट्ठा की जा रही है.

उत्तर प्रदेश के कानपुर में एक शासकीय बाल संरक्षण गृह में 57 लड़कियां कोरोना संक्रमित पाई गई हैं. इन संक्रमित लड़कियों में 5 प्रेग्नेंट हैं।इस खबर के बाद जिला प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है . कांग्रेस, सपा और आम आदमी पार्टी के नेताओं ने इस घटना में की कड़ी निंदा की है. बाल संरक्षण गृह में हो रहे  घिनोने अपराध के खिलाफ आम आदमी पार्टी के नेता और सांसद संयज सिंह ने कहा है कि इस घटना पर उनकी पार्टी उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में आंदोलन करेगी.बालिका संरक्षण गृह में रहने वाली लड़कियों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद प्रदेश में हड़कंप मच गया है.

वहीं इस घटना पर कानपुर के जिला मजिस्ट्रेट ब्रह्म देव राम तिवारी ने कहा ,” एक सरकारी संरक्षण गृह में 57 कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए हैं, सभी को अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. उनमें से 5 लड़कियां गर्भवती हैं, उन्हें विभिन्न स्थानों से विभिन्न POCSO मामलों के तहत वहां लाया गया था. पांचो बालिकाएं पहले से ही गर्भवती थीं, जब उन्हें संरक्षण गृह में लाया गया था.


इस घटना पर उन्होंने योगी सरकार ने जवाब भी मांगा है. यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी कानपुर की घटना पर बयान दिया है. अखिलेश ने ट्वीट कर कहा, ‘कानपुर के सरकारी बाल संरक्षण गृह से आई ख़बर से उप्र में आक्रोश फैल गया है. कुछ नाबालिग लड़कियों के गर्भवती होने का गंभीर खुलासा हुआ है. इनमें 57 कोरोना से व एक एड्स से भी ग्रसित पाई गयी है, इनका तत्काल इलाज हो.सरकार शारीरिक शोषण करनेवालों के ख़िलाफ़ तुरंत जाँच बैठाए.

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव के ट्वीट पर राजनीति गरमा गई है.अखिलेश के ट्वीट पर रोहित अग्रहरी ने पलटवार करते हुए कहा कि अखिलेश जी, जिम्मेदार व्यक्ति होकर इस प्रकार अफवाह उड़ाना कानूनी अपराध है, कृपया मामले को समझकर टि्वट करें,यह आपका बलात्कारी समाजवाद नहीं है यह योगी का राज्य है यहां बेटियां देवी रूपी होती है और बलात्कारी को सिर्फ फांसी होती है, कृपया गंदी समाजवाद का बू अपने तक सीमित रखें।।