पंचांग पुराण

Hanuman Jayanti 2022: हनुमान जयंती पर बन रहा है दुर्लभ संयोग,शनि की बुरी नजर से छुटकारा पाने का सुनहरा मौका!

Hanuman Jayanti 2022: इस बार हनुमान जयंती पर ऐसे विशेष योग बन रहे हैं जो न केवल बजरंगावली की कृपा लाएंगे, बल्कि शनि के प्रकोप से भी राहत दिलाएंगे. इसके लिए कुछ आसान से उपाय करने से असरदार परिणाम मिलेंगे।

Hanuman Jayanti 2022 : चैत्र पूर्णिमा के दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है। इस दिन अंजनी के पुत्र हनुमान का जन्म हुआ था। इस साल हनुमान जयंती 16 अप्रैल 2022 को है। इस दिन शनिवार है, वहीं कुछ ऐसे विशेष योग बन रहे हैं, जिन्होंने हनुमान जयंती को और भी महत्वपूर्ण बना दिया है। दरअसल मंगलवार और शनिवार भगवान राम के भक्त हनुमान को समर्पित हैं। इसलिए, यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हनुमान जयंती शनिवार के दिन पड़े।

त्रेतायुग में प्रभु श्रीराम की सहायता के लिए भगवान शिव का रुद्रावतार हनुमान जी के रुप में हुआ. हनुमान जी के पिता का नाम केसरी और माता का नाम अंजना है. मंगलवार के दिन जन्मे हनुमान जी के नाम के साथ वायु देव का भी नाम जुड़ता है, इसलिए उनको पवनपुत्र भी कहते हैं. इस साल हनुमान जयंती पर आप अपनी राशि के अनुसार बजरंगबली को भोग लगाकर प्रसन्न कर सकते हैं. उनके आशीर्वाद से आपको सुख, सफलता और तरक्की मिलेगी.

हनुमान जयंती पर बन रहा है शुभ योग

हनुमान जयंती के दिन रवि और हर्षन योग बन रहा है। साथ ही इस दिन हस्त और चित्रा नक्षत्र रहेंगे। रवि योग 16 अप्रैल को हनुमान जयंती पर सुबह 05:55 बजे शुरू होगा और रात 08:40 बजे तक चलेगा। सुबह 02:45 बजे शुरू हुआ हर्षना योग अगले दिन 17 अप्रैल तक चलेगा।चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि के दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है. इस दिन हनुमान जी का जन्म हुआ था. इस दिन देशभर में हनुमान जन्मोत्सव बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है.

शनि दोष दूर होंगे

शनि दोष को दूर करने के लिए हनुमान जी की पूजा करने की सलाह दी जाती है, क्योंकि शनि भी हनुमान के भक्तों पर अपनी बुरी नजर नहीं डालते हैं। इस बार हनुमान जयंती शनिवार को पड़ रही है जो बजरंगबली और शनि देव दोनों को समर्पित है। ऐसे में इस दिन शनि दोष से मुक्ति के लिए कुछ उपाय करने से काफी राहत मिलेगी.

1.हनुमान जयंती के दिन घी में एक चुटकी सिंदूर मिलाकर हनुमान जी पर लगाएं. इससे हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों के सभी कष्टों, दुखों और भयों को दूर करते हैं।

2.एक चुटकी सिंदूर को घी में मिलाकर कागज के एक टुकड़े पर स्वास्तिक का निशान बना लें. इसे हनुमान जी के हृदय में लगाकर अपनी तिजोरी में रख लें। इससे कुछ ही दिनों में धन का प्रवाह बढ़ेगा और धन की हानि रुकेगी।

3.हनुमान जयंती के दिन सरसों के तेल में सिंदूर मिलाकर हनुमान जी पर लगाएं. फिर बचे हुए सिंदूर से घर के मुख्य द्वार पर स्वास्तिक बनाएं। आप अन्य कमरों के दरवाजों पर भी स्वस्तिक बना सकते हैं। यह बुरी शक्तियों को घर में प्रवेश करने से रोकता है और घर में हमेशा खुशियों का वास रहता है।

4.यदि विवाह में बाधा आ रही हो तो हनुमान जी के चरणों में एक चुटकी सिंदूर लगाएं और उनसे शीघ्र विवाह की प्रार्थना करें. फिर इस सिंदूर से खुद का टीकाकरण करें, जल्द ही रिश्ता पक्का हो जाएगा।

हनुमान जयंती के दिन करें ये उपाय
हनुमान जयंती के दिन हनुमान जी के मंदिर जाएं. भगवान के सामने दीया जलाएं. इस दिन हनुमान मंदिर में 11 बार हनुमान चालीसा का पाठ करें. ऐसा माना जाता है कि इससे भगवान हनुमान प्रसन्न होते हैं. ऐसा करने से शनि दोष से छुटकारा मिलता है.

गरीबों को मुसीबतों से बचाने के लिए गुड़ और चने का भोग लगाकर गरीबों में बांट दें ।कर्ज से मुक्ति पाने के लिए जितनी आपकी उम्र है उतने पीपल के पत्ते लें। फिर चमेली के तेल में सिंदूर मिलाकर प्रत्येक पत्ते पर राम लिखकर हनुमान जी को अर्पित करें।

हनुमान जयंती के दिन हनुमान जी को गुलाब की माला अर्पित करें. इस दिन पीपल के 11 पत्ते लें. इस पर श्रीराम का नाम लिखें. इस पत्तों को भगवान हनुमान जी अर्पित करें. इससे शानि दोष दूर होते हैं.

हनुमान जयंती पर पान का पत्ता हनुमान जी को अर्पित करें. इस दिन सुंदरकांड का पाठ भी करना चाहिए. शनि दोष दूर करने के लिए हनुमान जी के सामने सरसों के तेल का दीया जलाएं. इस दीपक में 2 लौंग भी रखें. अब इस दीपक से भगवान हनुमान जी की आरती करें.

हनुमान जयंती के दिन हनुमान जी की मूर्ति के सामने बैठ कर रामायण और श्री राम रक्षा स्तोत्र का पाठ करें।देशी घी से बनी 5 रोटियां हनुमान जी को अर्पित करें. हनुमान मंदिर में बैठकर ‘ॐ रामदूताय नम:’ मंत्र का 108 बार जाप करें. ऐसा माना जाता है कि शनि के कारण जीवन में आने वाली परेशानियां दूर होती हैं.

हनुमान जयंती पर नारियल लेकर हनुमान मंदिर जाएं. नारियल को अपने सिर से सात बार वार लें. इसे हनुमान जी के सामने तोड़ दें. इस उपाय को करने से सभी बाधाएं दूरी होती हैं.

Back to top button