पंचांग पुराण

Shani Gochar 2022 : 29 अप्रैल को शनि बदलेगें राशि,इन तीन राशियों की बदल जाएगी किस्मत

Shani Gochar 2022 : शनि कर्म और भाग्य का ग्रह है। शनि अपनी ही राशि कुम्भ में होने के कारण शश नामक राजयोग भी बनाता है।

Saturn Gochar 2022: ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह एक निश्चिक समय अवधि पर एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करता है। साथ ही इस परिवर्तन का प्रभाव मानव जीवन पर पड़ता है। वहीं किसी व्यक्ति के लिए यह गोचर लकी रहता है तो किसी के लिए अनलकी। आपको बता दें शनि देव 29 अप्रैल को कुंभ राशि में गोचर करने जा रहे हैं। ज्योतिष के अनुसार शनि देव को एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करने में करीब ढाई साल का समय लगता है। इसलिए शनि कुंभ राशि में लगभग 30 साल बाद गोचर करने जा रहे हैं।वैदिक ज्योतिष में शनि को न्यायाधीश का पद प्राप्त है। मतलब शनि ग्रह कर्मों के हिसाब से फल देते हैं। इसलिए इस गोचर का प्रभाव सभी राशियों पर पड़ेगा लेकिन ये राशि परिवर्तन 3 राशि वालों के लिए लाभकारी सिद्ध हो सकता है। जानिए ये 3 राशियां कौन सीं हैं।

शनि गोचर 2022: आने वाले दिनों में भाग्य और कर्म के देवता कहे जाने वाले शनि लंबे समय बाद राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं। 29 अप्रैल को शनि मकर राशि को छोड़कर कुंभ राशि में प्रवेश करेगा। शनि की कुम्भ राशि से मीन राशि के जातकों पर शनि की साढ़े सती शुरू होगी और धनु राशि आधी सती से मुक्त होगी। लेकिन जब शनि फिर से मकर राशि में वक्री होगा तो 12 जुलाई से 17 जनवरी 2023 तक फिर से आधा साल लगेगा। वैसे जिस जातक की दशा या महादशा शनि की हो उस पर शनि का अधिक प्रभाव पड़ेगा। सती या ढैय्या चल रही है या ग्रह की दशा चल रही है या जिसे शनि देख रहा है या शनि के साथ बैठा है। शनि के तीन नक्षत्र पुष्य, उत्तराभाद्रप्रद और अनुराधा हैं इसलिए इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति पर भी शनि का प्रभाव पड़ेगा। आइए आज देखते हैं कि शनि की इस दृष्टि तुला राशि का वृश्चिक और धनु राशि पर मेष से मीन राशि पर क्या प्रभाव पड़ सकता है।

धनुराशि (dhanu rashi)

धनु राशि के लिए शनि तीसरे यानि पराक्रम भाव में दिखाई देंगे। धनु राशि से मुक्त होगा। लेकिन जैसे ही शनि वक्री होगा, सती का प्रभाव फिर से देखने को मिलेगा। 17 जनवरी 2023 के बाद डेढ़ सती पूर्ण रूप से मुक्त हो जाएगी। गुरु के लिए आत्मनिर्भर मीन राशि में आने का समय अच्छा रहेगा। तीसरी राशि शनि की पसंदीदा राशियों में से एक है इसलिए जो लोग यात्रा या शोध में शामिल हैं उन्हें बहुत अच्छे परिणाम मिलेंगे। दशमी द्रष्टि बारहवें भाव में पड़ने से भी विदेश जाने का मौका मिल सकता है। शनि का भाग्य आपको सातवें दृष्टिकोण से भी दिखाई देगा, जिससे परेशानी होगी, लेकिन गुरु का मीन राशि में आना उन सभी परेशानियों का सामना करते हुए कुछ हद तक सुरक्षित रहेगा। संतान भाव पर शनि की तीसरी दृष्टि होने से संतान की चिंता अवश्य होगी। सामने धन की हानि हो सकती है, जिसके लिए सावधानियाँ बरतने और उपाय करने से यह दिखावट बहुत फायदेमंद होगी।

आपके लिए शनि देव का गोचर शुभ साबित हो सकता है। क्योंकि शनि ग्रह आपके तीसरे भाव में गोचर करेंगे। जिसे पराक्रम और भाई- बहन का भाव कहा जाता है। इसलिए इस दौरान आपके पराक्रम में वृद्धि के संकेत हैं। साथ ही इस समय गुप्त शत्रुओं का भी नाश होगा। साथ ही शनि देव के कुंभ राशि में प्रवेश करते ही धनु राशि वालों को शनि साढ़ेसाती से मुक्ति मिल जाएगी। साथ ही किसी पुराने रोग से आपको निजात मिल सकती है। वहीं मान्यता है शनि जाते- जाते मालामाल करके जाते हैं। मतलब आपको प्रापर्टी या वाहन सुख मिल सकता है। साथ ही इस समय आपको व्यापार में भी अच्छा धनलाभ हो सकता है।

तुला राशि( tula rashi)

तुला राशि के लिए शनि पंचम भाव में दिखाई देगा। शनि की साढ़ेसाती खत्म होगी। पंचम भाव से लक्ष्मी, बुद्धि, संतान, विद्या, व्यापर, प्राणाया आदि बहुत कुछ दिखाई देता है। तुला राशि के लोगों के लिए शनि योगकारक माना जाता है। पंचम भाव में आकर शनि कार्य में चल रही अनिश्चितता से मुक्ति दिलाएगा। पैसा आ सकता है। शनि को हम सप्तम भाव में पंचम भाव से देखते हैं। जहां राहु पहले ही आ चुका है, वहीं व्यापार में कुछ भी उल्टा करके अपना काम पूरा करने में सहायक होगा। मतलब कुछ सोच ऐसी हो जाएगी कि वह आगे बढ़कर दुश्मन से स्पष्टीकरण ले सके। अच्छे फल के लिए आचरण और आचरण में पवित्रता होनी चाहिए।

पंचम भाव भी मन्त्र भाव ही है और शनि भी सन्यास और अध्यात्म का कारक है इसलिए व्यक्ति जितने अधिक मंत्रों से अध्यात्म और योग से जुड़ा होगा, लाभ निश्चित होगा। दशम दृष्टि द्वितीय भाव पर पड़कर धन संबंधी समस्या दे सकती है.. कर्ज भी लेना पड़े तो भी ऐसी स्थिति हो सकती है। लेकिन अंत में इसका फायदा भी दिखेगा। जीवनसाथी को लेकर थोड़ी सी चिंता परेशानी का कारण बन सकती है। पार्टनरशिप भी एक समस्या हो सकती है। व्यापारी वर्ग के लिए समय अच्छा है। नया काम भी सामने आ सकता है। कुल मिलाकर यह लुक अच्छा ही माना जाएगा।

इस समय शनि की ढैय्या तुला राशि पर चल रही है. लेकिन 29 अप्रैल के बाद इस राशि से भी ढैय्या समाप्त हो जाएगी. अभी तक जिन कार्यों में बाधा और चुनौती का आप लोगों को समाना करना पड़ रहा था, वे दूर होना शुरू हो जांएगी. सेहत से जुड़ी परेशानी भी दूर होगी. धन के मामले में शनि का यह परिवर्तन विशेष फल प्रदान करने जा रहा है. कई मामलों में आपको राहत मिल सकती है. किसी प्रकार का कोई विवाद है तो वो भी दूर हो सकता है.

वृश्चिक राशि (vrishchik Rashi)

इस राशि के जातकों के लिए शनि चतुर्थ भाव में दिखाई देगा और शनि की ढैय्या भी शुरू हो जाएगी। इस स्थान पर बैठा शनि चिंता दे सकता है। परिवर्तन के योग भी बन रहे हैं। कार्य में परिवर्तन भी हो सकता है। नौकरी में बदलाव भी हो सकता है। शनि आपकी राशि को भी दशमी दृष्टि से देखेगा जो शारीरिक कष्ट दे सकता है। लेकिन यदि शनि चतुर्थ में शनि शश योग कर रहा है तो ये भी शुभ फल देंगे। चतुर्थ भाव भूमि, मकान और वाहन है।जो लोग व्यापार से जुड़े हैं या परिवहन व्यवसाय में हैं उनके लिए यह अच्छा समय है। इसमें शनि अधिक मेहनत कर सकता है लेकिन शुभ फल जरूर देगा। यदि आलस्य से हानि होती है तो उसका त्याग करना आवश्यक होगा। कुल मिलाकर यह मिश्रण मिलेगा। खराब फल की स्थिति में राहत के उपाय अवश्य करें।

रात में पैदा हुए किसी भी व्यक्ति पर और भी अधिक प्रभाव

महर्षि पाराशर के अनुसार शनि को रात्रि यज्ञ माना गया है, अत: जिसका जन्म रात्रि में हुआ हो, उसके पास अधिक हो सकता है। इसका असर उन लोगों पर देखने को मिलेगा जो शनि के कार्य से जुड़े हैं। शनि कर्म और भाग्य का ग्रह है और शनि यह पुष्टि करता है कि यह कहाँ बैठता है और समस्या वहाँ देखी जाती है जहाँ शनि की दृष्टि है। मतलब समस्याएं पैदा करना क्योंकि शनि हमारे पिछले जन्म के अनुभव को दर्शाता है। इसलिए कुंडली में आप जहां कहीं भी होंगे, वह हमारा मजबूत पक्ष होगा और आप जो भी भाव देखेंगे, उसमें संघर्ष की स्थिति होगी। यहाँ शनि अपनी ही राशि कुम्भ में होने के कारण शश नामक राजयोग भी बनाता है। वैसे भी शनि अपनी दो राशियों में से कुम्भ को वरीयता देता है क्योंकि शनि भी संसार है और शनि भी सन्यासी है और कुम्भ आध्यात्मिक है। वायुगतिकी की मात्रा है और स्थिर राशि है। यह एक और संयोग बनता जा रहा है।

राहु के राशि परिवर्तन का भी पड़ेगा प्रभाव

हाल ही में राहु ने भी राशि परिवर्तन किया है वह मेष राशि में है इसलिए शनि की तीसरी दृष्टि उन पर पड़ेगी। राहु को कुंभ राशि का स्वामी भी माना जाता है। महर्षि पाराशर के अनुसार राहु भी शनि की तरह व्यवहार करता है। राहु कामना का ग्रह है, भ्रम का भी। कालपुरुष की कुंडली में शनि 11वें भाव में आता है और इस राशि को मनोकामना पूर्ति का संकेत माना जाता है। लाभ मूल्य पर भी विचार किया जाता है। यह लाभ उसे दिया जाता है जिसने कर्म किया है.. अर्थात पिछले ढाई वर्षों के कर्म जब शनि कर्म भाव में थे, अब फलदायी हो सकते हैं। वर्तमान कर्म भी फलदायी हो सकते हैं। शनि वायुगतिकी की मात्रा में तकनीक को बढ़ावा देगा। वहीं मेष राशि का राहु भी उसे बल प्रदान करता है। गुरु मीन राशि में हो तो ज्ञान लाभ होगा। नए विचारों से लाभ होगा। शनि राहु की युति को शापित योग भी माना जाता है इसलिए इसके प्रभाव आपकी कुंडली का सही विश्लेषण करने के लिए आवश्यक होंगे। किसी भी मामले में, सभी को एक ही फल नहीं मिल सकता है। लेकिन फिर भी हम यहां हर राशि के सामान्य फल के बारे में जानेंगे।

Back to top button

Adblock Detected

please dezctivate Adblocker