उच्च शिक्षा विभाग में एक OSD  मिला कोरोना पॉजिटिव,डर का माहौल  - विंध्य न्यूज़


Bhopal News Update : मध्यप्रदेश में लगातार कोरोना कहर बढ़ता जा रहा है। कोरोना ने भोपाल स्थित सतपुड़ा भवन को भी अपनी जद में ले लिया है। जी हां उच्च शिक्षा विभाग में पदस्थ एक OSD कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। उन्हें उपचार के लिए चिरायु अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है। ओएसडी को कोरोना पॉजिटिव होने से उच्च शिक्षा विभाग में भय का माहौल व्याप्त है। सतपुड़ा की तीसरी और पांचवी मंजिल को सेनिटाइज करने की व्यवस्था की जा रही है। वही चौथी मंजिल पर संचालक तकनीकी शिक्षा विभाग में अफसरों की चिंता की लकीरें साफ देखी जा सकती है। प्रशासन ओएसडी किस-किस से मिले यह जानकारी जुटाने में लगा है.सभी कर्मचारी और अधिकारी पूरे सतपुड़ा भवन को कंटेनमेंट एरिया घोषित करने की मांग कर रहे हैं। ओएसडी के कार्यालय में पदस्थ सभी कर्मचारियों को घर पहुंच कर क्वॉरेंटाइन रहने के निर्देश दिए गए हैं।

सिंगरौली कलेक्टर ने कहा कि मैं नहीं बोलूंगा ! जानिए क्या है मामला,

मिली जानकारी के अनुसार भोपाल में बुधवार को कोरोना के 17 नए पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इनमें आठ केस मिसरोद के हैं। यह मरीज जाटखेड़ी और ढोलक बस्ती के रहने वाले हैं। इसके अलावा शाहजहांनाबाद में दो मरीज मिले हैं। भोपाल में अब कुवैत से आए लोगों को मिलाकर मरीजों की संख्या 1190 हो गई है। बुधवार को अस्पताल से 22 मरीजों की छुट्टी कर दी गई। इस तरह अब तक 689 मरीज इस बीमारी से स्वस्थ हो चुके हैं। सुकून की बात यह भी है कि प्रदेश के सबसे बड़े हॉटस्पॉट जहांगीराबाद में बुधवार को एक भी मरीज नहीं मिला। उधर, सागर में चार, अशोक नगर में दो, राजगढ़, विदिशा और रायसेन के मंडीदीप में एक-एक मरीज मिले हैं।

यह विक्रेता-सीएम,एसडीएम सहित अधिकारियों के लिए करता है अभद्र टिप्पणी, जानिए क्यों,

5 thoughts on “उच्च शिक्षा विभाग में एक OSD  मिला कोरोना पॉजिटिव,डर का माहौल 

  1. Woah! I’m really enjoying the template/theme of this blog. It’s simple, yet effective. A lot of times it’s very hard to get that “perfect balance” between superb usability and visual appeal. I must say you have done a very good job with this. In addition, the blog loads very fast for me on Firefox. Outstanding Blog!

  2. You really make it appear really easy along with your presentation however I to find this topic to be actually one thing that I believe I might never understand. It seems too complex and very extensive for me. I am taking a look ahead on your next put up, I¦ll attempt to get the grasp of it!

Comments are closed.