करोड़ो के कोयला घोटाले की आशंका रिकार्ड में कोयला का भंडारण कम,मौके पर मिला सैकड़ो टन कोयले की मात्रा ज्यादा

सिंगरौली 22 मार्च। सीबीआई की टीम ने करीब 72 घंटे तक एनसीएल परियोजना अमलोरी के कोलयार्ड में कोयले के उत्खनन,डिस्पैच,स्टॉक भंडारण व कांटा का निरीक्षण करती रही। इस दौरान सीबीआई की जांच में करोड़ो रूपये कोयला घोटाला करने की आशंका जताई जा रही है। सीबीआई जबलपुर के एसपी ने इस बात का संकेत भी आज दिया है कि व्यापक पैमाने पर हेरफे र की संभावना है।

गौरतलब हो कि एनसीएल परियोजना अमलोरी में शुक्रवार को सीबीआई जबलपुर व बिजलेंस की करीब डेढ़ दर्जन सदस्यीय टीम ने शामिल अधिकारियों ने कोलयार्ड,स्टॉक भंडारण कांटा पर दबिश दिया। सीबीआई को शिकायत मिली थी कि परियोजना में कोयले के उत्पादन व डिस्पैच में व्यापक पैमाने पर गड़बड़ी की जा रही है। कोयला चोरी छुपके बेचा जा रहा है। इसी शिकायत के आधार पर सीबीआई की टीम ने शुक्रवार के दिन दबिश दिया जहां करीब 72 घंटे से अधिक समय तक सीबीआई की टीम परियोजना क्षेत्र के कोयला उत्खनन डिस्पैच,स्टॉक व रैक,डीओ होल्डर के दस्तावेजो को खंगालने व स्थल का जांच परीक्षण करती रही। इस दौरान जहां एनसीएल के अमले में हड़कम्प मचा हुआ हैतो वहीं जांच के दौरान पता चल रहा है कि परियोजना के कोलयार्ड में भारी मात्रा में कोयले का भंडारण किया गया है। लेकिन स्टॉक रजिस्टर के रिकार्ड में कोयले की मात्रा अनुपात में कम है। बाद में इसी कोयले को चोरी छुपके बेच देेते।

सीबीआई के सूत्रो के मुताबिक करीब चार करोड़ से अधिक हेरफेर की संभावना जताई जा रही है। कोयले की इस खेल में परियोजना के महाप्रबंधक से लेकर कोल माइनिंग,डिस्पैच के अधिकारियों के संलिप्त होने की आशंका जताई जा रही है। जनचर्चा है कि इन्ही अधिकारियों की मिलीभगत से परियोजना में कोयले का खेल खेला जा रहा था। इधर इस संबंध में सीबीआई जबलपुर पुलिस अधीक्षक ने मीडिया कर्मी से चर्चा करते हुये इस बात की पुष्टि किया है कि कोयले का भंडारण ज्यादा था और स्टॉक में कम दिखाया जा रहा है। जांच चल रही है इसकी जानरकारी शीघ्र की मुहैया करायी जायेगी। उन्होने माना है कि इसमें व्यापक पैमाने पर गड़बड़ी हुई है।

जीएम दफ्तर में सन्नाटा

एनसीएल परियोजना अमलोरी के दफ्तर में चार दिनो से सन्नाटा पसरा हुआ है। सीबीआई की टीम के दस्तक के बाद से ही परियोजना में हड़कम्प मचा हुआ है तो वहीं जिम्मेदार अधिकारी इस मामले में चुप्पी साधते हुये मीडिया कर्मियो को देख इधर-उधर खिसकने लगते हैं। सूत्रो के अनुसार कोयले के इस खेल में जीएम,एजीएम माइंस व कोल डिस्पैच माइंस मैनेजर सहित अन्य अधिकारियों एवं कर्मचारियों के संलिप्त होने की आशंका प्रमुख रुप से मानी जा रही है। उक्त अधिकारी इन दिनो चिंतित नजर आ रहे हैं। सीबीआई की टीम इस कारोबार में शामिल अधिकारियों को राडार में लेते हुये हर विन्दुओं की जांच पड़ताल किया है। हालाकि जांच के बाद क्या नतीजा निकलेगा और कौन-कौन इस कोयले के खेल में शामिल इस पर अभी कुछ भी कह पाना जल्दी बाजी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

please dezctivate Adblocker