खूबसूरत अंतिम गोंड शासक रानी कमलापति के नाम से जाना जाएगा हबीबगंज स्टेशन,PM मोदी करेंगे औपचारिक घोषणा

भोपाल का हबीबगंज स्टेशन का नया नाम भोपाल की अंतिम गोंड शासक रानी कमलापति के नाम पर होगा। राज्य सरकार ने इससे संबंधित प्रस्तव केंद्रीय गृह मंत्रालय को भेजा है। संभावना है कि 15 नवंबर को जब पीएम नरेंद्र मोदी स्टेशन का लोकार्पण करेंगे, तब इसके नए नाम की औपचारिक घोषणा हो सकती है। भाजपा शासित राज्य सरकार बनने के बाद देश की विरासत को बचाए रखने के लिए एक के बाद एक कड़े फैसले लेते हुए स्थानों के नाम को परिवर्तित कर देश के विभूतियों के नाम से नामकरण कर रही है

भोपाल रियासत की अंतिम गोंड शासक थीं रानी कमलापति
अपनी खूबसूरती के लिए मशहूर कमलापति के पति निजाम शाह की हत्या रिश्तेदरों ने की थी। पति की हत्या से दुखी रानी कमलापति ने पति के हत्यारे से बदला लेने की ठान ली थी इसीलिए उसने मोहम्मद खान से दोस्ती का हाथ बढ़ाया और उसके जरिए अपने दुश्मनों को खत्म करने का फैसला किया।

निजाम शाह की रानी थीं कमलापति

रानी कमलापति गिन्नौरगढ़ के मुखिया निजाम शाह की विधवा गोंड शासक थीं। निजाम शाह गोंड राजा थे और उनकी सात पत्नियां थी। इनमें से एक रानी कमलापति थीं। परियों की तरह खूबसूरत रानी कमलापति राजा की सबसे प्रिय पत्नी थीं। उस समय निजाम शाह के भतीजे आलम शाह का बाड़ी पर शासन था। उसे अपने चाचा निजाम शाह से काफी ईर्ष्या थी। कहा जाता है कि आलम शाह को निजाम शाह की दौलत और संपत्ति के साथ कमलापति की खूबसूरती से भी ईर्ष्या थी। आलम शाह रानी कमलापति की खूबसूरती पर मोहित था। उसने रानी से अपने प्यार का इजहार भी किया था, लेकिन रानी ने उसे ठुकरा दिया था।

अपनों ने कर दी थी निजाम शाह की हत्या

आलम शाह रानी कमलापति को पसंद करता था इसीलिए वह अपने चाचा निजाम शाह के खिलाफ लगातार षडयंत्र करता था। एक बार उसने खाने में जहर मिलाकर उनकी हत्या कर दी। खुद को इन षडयंत्रों से बचाने के लिए रानी कमलापति अपने बेटे नवल शाह को गिन्नौरगढ़ से भोपाल के रानी कमलापति महल लेकर आ गईं। परेशान रानी कमलापति अपने शौहर की मौत का बदला लेना चाहती थीं, लेकिन इसके लिए उनके पास न तो फौज थी और न ही पैसे।

दोस्त मोहम्मद खान ने की रानी कमलापति की मदद

इसी दौरान उनकी मुलाकात दोस्त मोहम्मद खान से हुई। इतिहासकारों के मुताबिक दोस्त मोहम्मद खान पहले मुगल सेना का हिस्सा था, लेकिन लूटी हुई संपत्तियों के हिसाब में गड़बड़ी के बाद उसे निकाल दिया गया था। इसके बाद उसने भोपाल के नजदीक जगदीशपुर पर अपना शासन स्थापित कर लिया था। रानी ने अपने पति की मौत का बदला लेने के लिए दोस्त मोहम्मद से मदद मांगी। दोस्त मोहम्मद ने इसके बदले रानी से एक लाख रुपये मांगे जिसे देने के लिए वह तैयार हो गईं।

रानी के बेटे को मारकर दोस्त मोहम्मद ने किया था भोपाल पर कब्जा

दोस्त मोहम्मद ने बाड़ी के राजा पर हमला कर उसकी हत्या कर दी। इस काम से रानी खुश हो गईं, लेकिन करार के मुताबिक वह दोस्त मोहम्मद को एक लाख रुपये नहीं दे पाईं। इसके बदले में उन्होंने भोपाल का एक हिस्सा उसे दे दिया। इस समय तक रानूृी कमलापति का बेटा नवल शाह बड़ा हो चुका था। नवल शाह को दोस्त मोहम्मद का भोपाल के एक हिस्से पर कब्जा मंजूर नहीं था। इसको लेकर दोनों के बीच लड़ाई हुई। जानकारी के मुताबिक दोस्त मोहम्मद ने नवल शाह को धोखे से जहर देकर मार दिया और पूरे भोपाल रियासत पर कब्जा कर लिया।

Back to top button

Adblock Detected

please dezctivate Adblocker