चुरहट डॉक्टर सुसाइड केस - एक वर्ष बाद डॉ के आत्महत्या को लेकर पूर्व CMHO सहित चार दोषियों के ऊपर केस दर्ज,जानिए क्या है मामला - विंध्य न्यूज़


सीधी – जिले के चुरहट थाना अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ करीब 1 वर्ष पूर्व डॉ शिवम मिश्रा की हत्या गुत्थी सुलझती दिख रही है, इस पूरे मामले में तत्कालीन CMHO डॉक्टर आर.एल.वर्मा सहित चार आरोपियों के विरुद्ध चुरहट टीआई हितेन्द्र नाथ शर्मा ने मामला पंजीबद्ध कर लिया है। पुलिस द्वारा धारा 306,120भादवी के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना की जा रही है।

अजब-गजब…रात होते ही गाय से मिलने आ जाता है तेंदुआ,जानिए क्या है दोनों के बीच का ये रहस्य


बता दें कि करीब एक वर्ष पूर्व चुरहट स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ डॉ शिवम मिश्रा ने अपने शासकीय आवास में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। प्रारंभिक जांच के बाद संदिग्ध तथ्य जो सामने आये थे वह सब चौकाने वाले थे । पूरे मामले की जांच कि जा रही थी और एक वर्ष बाद अब जो तथ्य सामने आए हैं उसके मुताबिक चुरहट में पदस्थ स्टाफ नर्स द्वारा उच्च अधिकारियों के साथ मिलकर षड़यंत्र पूर्वक डॉ के विरुद्ध छेड़छाड़ व एसटी एससी एक्ट के तहत मामला पंजीबद्ध कराया गया था। यही कारण था कि तत्कालीन CMHO  वर्मा नर्स के सहारे मृतक डॉक्टर को प्रताड़ित कराते थे। प्रथम दृष्टया तरह-तरह के तथ्य अब धीरे धीरे परत दर परत उजागर होने लगे हैं , आगे और इस काण्ड की परत खुलेगी । जनश्रुति के अनुसार एक खाखी की भूमिका भी इस मामले में संदिग्ध रही है । फिलहाल चुरहट टीआई हितेंद्र शर्मा पूरे मामले को दूध का दूध पानी का पानी करने में लगे हैं ।

वायरल वीडियो..शराबी महिला का हंगामा,शराब बिक्री के पहले दिन से ही परिणाम आना शुरू,वीडियो देखें,

यह था मामला
मृतक चिकित्सक शिवम मिश्रा रीवा जिले का निवासी था. पिछले चार-पांच साल के जिले के विभिन्न स्वास्थ्य केंद्रों में अपनी सेवाएं दे चुके थे. चुरहट में स्थित सरकारी आवास में कपड़े से फंदा बनाकर फांसी लगाकर उन्होंने आत्महत्या कर ली. डॉक्टर शिवम के खिलाफ 15 दिन पहले चुरहट थाने में एससी-एसटी के तहत मामला दर्ज हुआ था. बताया जा रहा है ति स्टाफ नर्स की शिकायत के आधार पर चिकित्सक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था.एक नर्स ने डॉ. शिवम पर छेड़छाड़ के गंभीर आरोप लगाए थे। मामले में पुलिस ने जांच के बाद एफआइआर भी दर्ज कर ली थी। चुरहट पुलिस के अनुसार डॉ. शिवम मिश्रा के ऊपर अपराध क्रमांक 02/2019 में धारा 354,323 आईपीसी, 3(2)(व्हीए) एससीएसटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया गया था। पुलिस जांच के दौरान चुरहट में पदस्थ नेत्र सहायक व एक कर्मचारी ने नर्स के पक्ष में बयान दिया था, जो उनके खिलाफ एफआइआर का बड़ा कारण बना था।मामले में कई बार समझौते का प्रयास भी किया गया, लेकिन समझौता नहीं हुआ।