जनप्रतिनिधियों की उदासीनता, मझौली उप तहसील को आज तक नहीं मिल पाया तहसील का दर्जा

मड़वास के साथ सौतेला व्यवहार या जनप्रतिनिधि विहीन आज तक फुल तहसील और थाने का नही प्राप्त हुआ दर्जा स्वास्थ्य और शिक्षा की भी व्यवस्था डामाडोल

सीधी मध्यप्रदेश- सीधी जिले से लगभग 40 किलोमीटर दूर स्थित मड़वास ग्राम में आज से नहीं कई वर्षों से मड़वास के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है वो चाहे थाना को लेके हो या उप तहसील को तहसील का दर्जा प्राप्त करने के लिए हो या स्वास्थ्य शिक्षा की व्यवस्था को लेकर हो मध्य प्रदेश में अभी नवीन 4 नई तहसीलों खंडवा जिले में किल्लौद व मूंदी तथा टीकमगढ़ में दिगौड़ा बुरहानपुर जिले में धूम धूमकोट तहसीलों के गठन एवं नवीन पदों के सृजन को मंजूरी मिली वही सीधी जिला से 40 किलोमीटर दूर स्थित मड़वास जोकि कई वर्षों से उप तहसील से तहसील के दर्जे के लिए प्रस्ताव भेजने के बावजूद भी विचाराधीन पड़ा हुआ है।

प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान जी का जब-जब आना हुआ तब-तब घोषणा यही की जाती रही कि बहुत जल्द ही मड़वास को तहसील का चौकी को थाना का दर्जा प्राप्त होगा लेकिन आज 10 वर्षों से मड़वास के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है ऐसा लगता है जैसा मड़वास जनप्रतिनिधि विहीन है पूर्व में जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान भी मुख्यमंत्री जी के द्वारा 1 वर्ष के अंदर तहसील के दर्जा की बात की गई थी लेकिन आज दिनांक तक किसी प्रकार भी कोई कार्यवाही नहीं की गई वही थोड़े दिन पूर्व राज्यसभा सांसद अजय प्रताप सिंह जी ने भी आकर के भोली भाली जनता जनार्दन को तहसील के दर्जे सपना दिखाते हुए 1 वर्ष का आश्वासन दे दिया अभी थोड़े समय पूर्व ही प्रदेश में 4 नई तहसीलों को दर्जा प्राप्त हुआ है लेकिन मड़वास का उसमें दूर-दूर तक नामोनिशान नही है। क्षेत्रीय विकास के कार्यों को लेकर के जनप्रतिनिधियों को कार्यों को करना करवाना अत्यंत आवश्यक है नही तो इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा वही देखें जो जिले के हालात हैं सीधी जिला पूरे प्रदेश में सबसे निचले कुछ ले स्तर पर दिखता प्रतीत हो रहा है यहां कोई भी मंत्री आने के लिए तैयार नही सीधी के विकास की जब बात आती है तो तो सारे जनप्रतिनिधि मौन धारण कर लेते हैं पूर्व में सीधी की प्रभारी मंत्री मीणा मांडवे जी के द्वारा जहां मड़वास थाने का उद्घाटन करना था वही नए भवन में चौकी का उद्घाटन करके चली गई वही मझौली और मड़वास के अंतर्गत एक भी नहीं है जननी एक्सप्रेस आए दिन जच्चा-बच्चा की होती है मौत इसका जिम्मेदार कौन मड़वास अंचल के अंतर्गत एक भी नही है महाविद्यालय 30 से 40 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है बच्चों को पढ़ने के लिए अगर इसी तरह रवैया और स्थिति बनी रही तो मड़वास की भोली-भाली जनता बहुत जल्दी थाना तहसील नही तो वोट नही के संकल्प को लेकर के आगे बढ़ेगी और अपने हक अधिकार के लिए लड़ेगी, उग्र आंदोलन करेगी, रोड में उतरेगी और अपना हक और अधिकार जो है उसको प्राप्त करके ही रहेगी खूब हो गया भोली-भाली जनता का शोषण अब नही।

इनका कहना है

IMG 20211122 WA0015

क्षेत्रीय जन समस्याएं आज से नही काफी पूर्व से हैं वह चाहे पानी की हो शिक्षा की हो या स्वास्थ्य की जनप्रतिनिधि हरदम शून्य पड़े रहते हैं शासन प्रशासन की स्थितियां भी सही नही है मड़वास क्षेत्र की जनता के साथ हरदम सौतेला व्यवहार होता चला आ रहा है आज भी न यहां थाना न स्वास्थ्य की व्यवस्था ना शिक्षा की व्यवस्था अगर यही स्थितियां बनी रही तो हम सब मिलकर के अपने हक अधिकार के लिए काफी बड़ा जन आंदोलन करेंगे। पंकज पाण्डेय,समाज सेवी

IMG 20211122 WA0014

आखिर मड़वास क्षेत्र की जनता कब तक आश्वासन का मोहताज रहेगी जो भी राजनेता आते हैं वह चाहे प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह जी हो या राज्यसभा सांसद अजय प्रताप सिंह जी या क्षेत्रीय सांसद या विधायक क्षेत्र की जनता को आश्वासन का सपना दिखाते 10 वर्ष हो गया अगर मड़वास को पूरी तरह तहसील और थाने का दर्जा प्राप्त नही हुआ और स्वास्थ्य, शिक्षा व्यवस्था नही सुधरी तो होगा बड़ा जन आंदोलन जिसकी जिम्मेदारी शासन और प्रशासन होगी। शिवम शुक्ला,युवा समाजसेवी

IMG 20211122 WA0017

पूर्व से ही मड़वास क्षेत्र की कई जन समस्याएं थी जिन को लेकर के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री शिवमूरत देव जी महाराज ने पहल किया और उनके लगातार प्रयासरत रहने के बाद कार्यों में सफलता मिली है क्षेत्र मे कई समस्याएं हैं एक भी नहीं है जननी एक्सप्रेस आये दिन गर्भवती महिलाओं को होती है परेशानी जच्चा बच्चा की जाती है जान इसका जिम्मेदार जिला प्रशासन ने जनप्रतिनिधि लगभग डेढ़ वर्ष से पुलिस 100 नंबर वाहन भी खराब पड़ा हुआ है शासन प्रशासन से आग्रह करता हूं की ऐसी समस्याओं को शीघ्र से शीघ्र निराकरण करने की कृपा करें। राजाराम साहू,समाज सेवी

IMG 20211122 WA0016

मड़वास अंचल से ही पढ़ने के लिए विद्यार्थियों को 30 से 40 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है शिक्षा की व्यवस्था पर सुधार लाना और मड़वास अंचल को महाविद्यालय प्रदान करना अत्यंत ही आवश्यक है क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि एवं माननीय कलेक्टर महोदय से आग्रह है इस समस्या का समाधान करने की कृपा करें अन्यथा होगा जन आंदोलन अभिनव साहू,अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद

Back to top button

Adblock Detected

please dezctivate Adblocker