uncategorized

पूर्व मंत्री कमलेश्वर पटेल ने सीधी बस हादसा को लेकर कही ये बड़ी बात, राजनीतिक गलियारे में मचा भूचाल

संबंधित मंत्री जिम्मेदार, उनसे इस्तीफा लें
पूर्व मंत्री कमलेश्वर पटेल ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र
सीधी- मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को स्वीकार करना चाहिए कि सीधी की त्रासदपूर्ण बस दुर्घटना में प्रशासन की अदूरदर्शिता और असंवेदनशील रवैया अपनाने के कारण हुई है। बस दुर्घटना पर फौरी कार्रवाई कर पूरी त्रासदी पर पर्दा डालने का प्रयास किया गया है। इतनी बड़ी त्रासदी के लिए सिर्फ सीधी आरटीओ और एमपीआरडीसी के डिविजनल मैनेजर, एजीएम और मैनेजर को सस्पेंड करना काफी नहीं है।

संबंधित मंत्री से इस्तीफा लेना चाहिए। पूर्व पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री एवं सिहावल विधायक कमलेश्वर पटेल ने इस आशय का एक पत्र मुख्यमंत्री को लिखकर पूछा है कि वे क्यों नहीं मानते कि – मृतकों में ज्यादातर परीक्षा देने जा रही बहन-बेटियां थीं ? यदि उनका परीक्षा केन्द्र व्यापम संबंधित जिलों में ही बना देता तो उनकी जान बच जाती। मृतकों में वे बेटियाँ थीं जो नौकरी पाने के काबिल और हकदार थी। उनकी असमय मृत्यु से परिवार के सामने हमेशा के लिये संकट हो गया है इसलिये उन्हें सरकारी नौकरी दिया जाना चाहिए। व्यापम द्वारा परीक्षा के लिये रीवा सीधी, सिंगरौली जिले को परीक्षा केंद्र नहीं बनाकर सतना को परीक्षा केंद्र बनाया गया। इससे सीधी जिले के 11 लाख से अधिक आबादी के सिंगरौली एवं रीवा जिलों की अनदेखी हुई। परीक्षार्थियों को लंबी दूरी तय करना पड़ी।

श्री पटेल ने मुख्यमंत्री से ये भी पूछा कि क्या उन्हें नहीं मालूम कि – रीवा, सीधी और सिंगरौली राजमार्ग को पिछले पांच दिनों से प्रशासन ने बंद कर रखा था ? जिसके बाद राजनीतिक गलियारे बुखार आ गया ? इसके चलते वैकल्पिक मार्ग नहर के रास्ते से बस जा रही थी। परिवारों को अपनों को खोने का कितना बड़ा सदमा पहुंचा है। यह दुर्घटना सरकार की अदूरदर्शिता का परिणाम है और सरकार भी जिम्मेदार है? कमलेश्वर पटेल ने उम्मीद जताई है कि सरकारी मदद से आगे बढ़कर इस भयानक त्रासदी पर मुख्यमंत्री कोई ठोस निर्णय करेंगे। उन्होंने कहा कि संवेदनशीलता का कोरा प्रदर्शन काफी नहीं है। पूर्व मंत्री के इस बयान के बाद राजनीतिक गलियारे भूचाल आ गया. सत्ता पक्ष जवाब देने से बच रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Adblock Detected

please dezctivate Adblocker