प्यार-तकरार-ब्लैकमेलिंग अब हत्या, दोस्त के साथ मिलकर घर में वारदात को दिया अंजाम,गिरफ्तार

गला घोटकर भगवंती की दो युवकों ने किया था निर्मम हत्या,चितरंगी पुलिस ने अंधी हत्या की गुत्थी सुलझाने किया दावा, 11 नवंबर को ग्राम धवई के झोपड़ी में मिला था महिला का सड़ा गला शव

सिंगरौली 19 नवंबर । पहले प्यार फिर तकरार फिर ब्लैकमेलिंग और अब हत्या का यह सनसनी खेज मामला सिंगरौली का है।पुलिस ने सिंगरौली जिले के चितरंगी थाना क्षेत्र मे मिली महिला की लाश मामले की मिस्ट्री को सुलझा लिया है। हत्या के आरोप में गांव के ही दो युवकों को गिरफ्तार कर लिया है।

चितरंगी थाना क्षेत्र के ग्राम धवई में 11 नवंबर को एक सुनसान झोपड़ी के अंदर सड़ी-गली महिला का शव मिलने के बाद क्षेत्र में सनसनी फैल गई थी। घटना की सूचना पर चितरंगी टीआई स्थल पहुंच शव को अपने कब्जे में लेते हुए पोस्टमार्टम करा विवेचना शुरू कर दिया था । जहाँ चितरंगी पुलिस ने अंधी हत्या की गुत्थी का सुलझाने का दावा किया है। महिला के इस हत्या में शामिल दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है। हत्या का कारण महिला से आरोपियों का अवैध संबंध था डरा धमकाकर दोनों से मुंह मांगी रकम मांगती थी।

घटना के संबंध में चितरंगी टीआई डीएन राज ने बताया कि भगवंती सिंह गौड़ पति जग्गू सिंह उम्र 45 वर्ष हाल निवासी धवई का विवाह थाना जियावन के लोहरा गांव में हुई थी एक पुत्र होने के बाद करीब 20 वर्ष पूर्व अपने पति जग्गू सिंह को छोड़कर मायके धवई में आकर रहने लगी थी करीब 10 साल तक अपने पिता-भाई रह रही थी इसके बाद वह धवई गांव में ही चितरंगी-कर्थुआ सड़क के किनारे छोटी सी झोपड़ी बनाकर मनिहारी का सामान बेचकर, पुराने कपड़े व रजाई बनाकर अपना गुजर-बसर कर रही थी झोपड़ी के आसपास अन्य कोई मकान नहीं था टीआई ने आगे बताया कि 11 नवंबर को उसके झोपड़ी में ताला बंद होने के बाद दुर्गंध आने लगी तो लोगों का ध्यान गया और पंचायत के सरपंच व भगवंती के भाई लाल बहादुर ने दरवाजा खोल कर देखा तो महिला भगवंती सिंह चारपाई के नीचे मृत अवस्था में पड़ी है और उसका शव सड -गल चुका था पुलिस को घटना की सूचना दी गई। टी आई डीएन राज ने इस घटना की जानकारी पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र कुमार सिंह, एएसपी अनिल सोनकर व एसडीओपी राजीव पाठक को अवगत कराते हुए एफ एसएल टीम व पुलिस बल के साथ स्थल पहुंचे जहां एसडीओपी राजीव पाठक भी साथ में थे घटनास्थल पहुंच शव को अपने कब्जे में लेते हुए प्रथम दृष्टया में ही अंधी हत्या मानी गई शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया और मर्ग कायम कर विवेचना शुरू की गई टीआई ने आगे बताया कि इस अंधी हत्या की गुत्थी को सुलझाने के लिए एसडीओपी लगातार तीन दिनों तक घटनास्थल में कैंप कर अलग -अलग टीम बनाते हुए संदेहियो से पूछताछ हुआ विवेचना शुरू की गई इस दौरान पुलिस के काफी मशक्कत के बाद अंधी हत्या की गुत्थी का खुलासा हुआ है उन्होंने बताया कि आरोपी प्रिंस यादव पिता राम सुग्रीव यादव उम्र 21 वर्ष व अजीत यादव पिता छोट का यादव उम्र 22 वर्ष निवासी धवई को गिरफ्तार कर उनके विरुद्ध भादवि की धारा 302ए 34ए 3,2,भी एससी एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया।

दोनों आरोपी का था महिला से अवैध संबंध
चितरंगी टीआई ने बताया कि मृतिका भगवंती गोड झोपड़ी में अकेले रहकर मनिहारी का काम करती थी मृतिका की हत्या के संबंध में संदेही प्रिंस यादव पिता राम सुग्रीव यादव को सबसे पहले हिरासत में लेकर हर पहलुओं पर पूछताछ की गई आरोपी ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि साथी अजीत यादव से शारीरिक संबंध महिला भगवती से था जिस कारण से महिला कभी-कभी खर्च भी लिया करती थी इस दौरान उसे रुपए भी दिए जाते थे किंतु बाद में महिला भगवंती अधिक रकम की मांग करने लगी और धमकाने लगे कि रुपया नहीं दोगे तो तुम्हारे परिवार वालों को शारीरिक संबंध की बात बता देंगे इसी बात के डर से प्रिंस यादव व अजीत यादव दोनों मिलकर महिला हत्या करने के लिए योजना बनाई। उन्होंने आगे बताया कि27 अक्टूबर की शाम भगवंती के घर पहुंच अजीत यादव व प्रिंस रस्सी लेकर ने उसके हाथ पकड़ गला में रस्सी बांधकर घोट दिया जहां महिला की मौत हो गई। आरोपी अजीत शादी शुदा है व दोनो मजदूरी का कार्य करते है।

Back to top button

Adblock Detected

please dezctivate Adblocker