रीवा पुलिस ने गांजा तस्करी के बड़े रैकेट का किया पर्दाफाश, 1.42 करोड़ के माल के साथ 4 गिरफ्तार

रीवा — एमपी में बड़े पैमाने पर गांजे की तस्करी हो रही है। 3 माह के भीतर रीवा में पुलिस ने नशे के सौदागरों को पकड़ने में एक बार फिर सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने 1.42 करोड़ से अधिक के गांजे के साथ 4 तस्करों को गिरफ्तार किया है। रीवा एसपी ने मुखबिर की सूचना पर यह कार्रवाई की है। कंटेनर से इतनी बड़ी संख्या में माल बरामद किया गया है।

मध्य प्रदेश की रीवा पुलिस ने नारकोटिक्स इंटेलिजेंस यूनिट की इनपुट पर परिवर्तित कंटेनर से 1.42 करोड़ रुपये मूल्य का 9.52 क्विंटल गांजा जब्त किया है. आईजी के निर्देश पर मऊगंज पुलिस ने सोमवार शाम यूपी के मिर्जापुर से रीवा आ रहे गांजा की एक खेप को पकड़ लिया. रेक करने के लिए बाइक सवार ट्रक के आगे-आगे चल रहे थे। पुलिस ने 4 तस्करो को गिरफ्तार किया है।

रीवा रेंज के आईजी उमेश जोगा ने मंगलवार दोपहर 3 बजे कंट्रोल रूम में बताया कि सोमवार की रात यूपी के मिर्चापुर से रीवा की ओर बड़े पैमाने पर गांजे की बड़ी खेप नारकोटिक्स इंटेलिजेंस यूनिट से प्राप्त हुई. एसपी राकेश सिंह और एएसपी विजय डाबर ने टीम बनाई। टीम में मऊगंज थाना प्रभारी विद्या वरिद तिवारी के नेतृत्व में हनुमना थाना प्रभारी शैल यादव, सोहागी थाना प्रभारी पवन शुक्ला को गठित कर हाईवे पर तैनात किया गया है. इसी बीच मऊगंज चाकघाट मोड़ की ओर जाने वाले ओवर ब्रिज के नीचे गांजा का कंटेनर फंस गया.

पुलिस ने बताया कि कंटेनर के सामने एक बाइक में दो युवक सवार थे, जिन्हें पुलिस ने रोक लिया और पूछताछ की. फिर कंटेनर को रोका और चेक किया, लेकिन अंदर कुछ नहीं मिला। इसके बाद चालक को नीचे उतारा और उसकी बारीकी से तलाशी ली। तभी पुलिस ने चालक के पिछले हिस्से को संशोधित देखा। पता चला कि केबिन को काटकर कुछ नया किया गया है। केबिन तोड़ा तो अंदर गांजे की खेप मिली। पुलिस टीम ने केबिन तोड़ने का फैसला किया। केबिन का बार तोड़ा गया तो अंदर 18-18 किलो की 53 बोरी मिली, जिसका वजन करने पर 9 क्विंटल 53 किलो गांजा निकला। पुलिस का दावा है कि जब्त गांजे की बाजार कीमत 1.42 करोड़ रुपये है.

Back to top button

Adblock Detected

please dezctivate Adblocker