सक्षम घर की महिलाएं राशन के लिए सड़क पर उतरी !  - विंध्य न्यूज़

कर्फ्यू व लॉकडाउन का उल्लंघन कर सड़कों पर उतरी 90 से ज्यादा महिलाओं पर एफआईआर दर्ज !कलेक्टर ने जारी कि ए दस हेल्पलाइन नंबर, कहा- 12 घंटे में घर पहुंचेगा राशन 

बुरहानपुर । जहां एक तरफ पूरा देश वैश्विक महामारी के संक्रमण को रोकने के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास कर रहा है वहीं दूसरी तरफ कुछ असामाजिक तत्व अव्यवस्था फैलाने से बाज नहीं आ रहे हैं या फिर यूं कहें कि कुछ तथाकथित लोग भोले भाले लोगों को बहका कर समाज में अस्थिरता फैलाने की नाकाम कोशिश कर रहे हैं जी हां हम बात कर रहे हैं बुरहानपुर जिले की राशन सहित अन्य जरूरी सामग्री उपलब्ध कराने की मांग को लेकर सोमवार को शहर के मुस्लिम बाहुल्य नया मोहल्ला और नेहरू नगर कंटेनमेंट एरिया की सैकड़ों महिलाएं सड़कों पर उतर आर्ईं। लोगों के सामूहिक रूप से लॉकडाउन व कर्फ्यू के उल्लंघन की तीन दिन में यह दूसरी घटना है। सूचना मिलने के बाद पुलिस और प्रशासन ने जहां उन्हें समझाइश देकर घरों में वापस भेज दिया है, वहीं शिकारपुरा पुलिस ने दोनों क्षेत्रों को मिलाकर 90 से ज्यादा महिलाओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है!सड़कों में उतरी महिलाओं को लीड करने वाली करीब 15 के खिलाफ नामजद एफआईआर है जबकि शेष की पहचान की जा रही है। 

उल्लेखनीय है कि शनिवार को जयस्तंभ क्षेत्र की महिलाएं इसी मांग को लेकर घरों से बाहर आ गई थीं। जिसके बाद प्रशासन ने उन्हें भरोसा दिलाया था कि उनकी जरूरत का सामान घर पहुंच सेवा के जरिए मुहैया कराया जाएगा। कलेक्टर प्रवीण सिंह ने अपने वादे के मुताबिक 10 हेल्पलाइन नंबर भी जारी कर दिए हैं.जिनमें फोन करके कंटेनमेंट एरिया के रहवासी राशन समेत अपनी जरूरत का सामान मंगाने पर 12 घंटे के अंदर डिलीवरी कराया जाएगा । कलेक्टर ने कुछ लोगों द्वारा सेंपल नहीं लिए जाने संबंधी शिकायत पर भी सफाई देते हुए बताया है कि सेंपलिंग के लिए कु छ प्रोटोकाल तय कि या गया है। जिसके मुताबिक सबसे पहले उन लोगों के सेंपल लिए जा रहे हैं जिनमें सर्दी, खांसी, बुखार जैसे लक्षण दिख रहे हैं या वे कोरोना पॉजिटिव के संपर्क में आए हैं। यह चक्र पूरा होने के बाद हल्के लक्षण वाले मरीजों के भी सेंपल लिए जाएंगे।

कलेक्टर ने आम जनमानस से अपील की है कि कुछ समय और धैर्य से काम लें और लॉकडाउन के नियमों का पालन करें। जिससे कोरोना जैसी महामारी को जड़ से समाप्त किया जा सके । इसी तरह एसपी बीएस बिरदे ने भी लोगों से अपील की है कि वे अपनी समस्या और जरूरत जिला प्रशासन द्वारा जारी किए गए नंबरों पर बताएं। एसपी ने सख्त लहजे में कहा कि कानून का उल्लंघन करने पर किसी को बख्शा नहीं जाएगा। 

महिलाएं बुर्के पहनकर घरों से निकली बाहर !

सोमवार दोपहर करीब 12 बजे नया मोहल्ला क्षेत्र की आधा सैंकड़ा से ज्यादा महिलाएं बुर्के पहनकर घरों से बाहर निकल आईं। इसके बाद सब एकत्र होकर कलेक्टर से मिलने के निकल पड़ीं। नया मोहल्ला से पांडुमल चौराहा होते हुए महिलाएं कमल टॉकीज तिराहे तक पहुंच गई थीं। इतनी भीड़ देखकर यहां तैनात पुलिस कर्मियों ने उन्हें रोका और आला अफसरों को सूचना दी। जिसके बाद काफी संख्या में महिला पुलिस कर्मियों को भेजा गया और महिलाओं को घर लौटाया गया। अभी यह मामला थमा भी नहीं था कि नेहरू नगर क्षेत्र से इसी तरह महिलाओं के बाहर आने की खबर आ गई। पुलिस अफसरों ने वहां भी पहुंच कर लोगों को समझाया और कानून का पालन करने की अपील की। कुल मिलाकर सोमवार का दिन शिकारपुरा थाना सहित अन्य थानों के पुलिस कर्मियों के लिए मशक्कत भरा साबित हुआ। सूत्रों की माने तो इस पूरे घटना में एक सोची समझी साजिश है जहां देश को अस्थिर करने की नाकाम कोशिश की जा रही है.

इनके खिलाफ मामला दर्ज
शिकारपुरा थाना प्रभारी गोपाल सिंह चौहान ने बताया कि शहर में जारी कर्फ्यू और लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने पर नया मोहल्ला निवासी रजिया पति दिवाकर, शकीला पति इस्माइल, नूरजहां पति मोह.शाहबान, शहनाज पि मोह.जावेद, नसीम पति आरिफ, तसलीन पति तय्युब व 30 अन्य महिलाओं के खिलाफ विविध धाराओं, पब्लिक हेल्थ एक्ट 1950 तथा आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कि या गया है। इसी तरह नेहरू नगर क्षेत्र की जमीला पति संबीर, संगीता पति शकील ठेके दार, सौम्मी उर्फ समीन बाने पति कलीम हम्माल, मुमताज पति मुलुतु, नसीम, जोया पति शब्बी, सईदा, रेहनुमा, रूबिना पति शेख बीसल सहित 50 से 60 अन्य महिलाओं के खिलाफ इन्हीं धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।


सक्षम परिवार की निकली महिलाएं
सूत्रों के मुताबिक इन सभी की जांच पड़ताल किए जाने पर आधे से अधिक महिलाएं सक्षम परिवार की पाई गई हैं। सूत्रों की मानें तो जिला प्रशासन जब कुछ महिलाओं के घर जाकर उनकी माली हालत देखी तो दंग रह गए जहां कल महिलाओं के आलीशान घर बने थे तो कुछ के यहां प्याज की कालाबाजारी के लिए कई क्विंटल प्याज रखी हुई थी जबकि शेष की वीडियो के आधार पर पहचान की जा रही है। सभी की जल्द गिरफ्तारी कर कोर्ट में पेश कि या जाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि प्रशासन द्वारा राशन दुकान व अन्य माध्यमों से भी क्षेत्र के गरीबों को राशन उपलब्ध कराया गया है। बावजूद इसके ये महिलाएं बेवजह राशन नहीं होने का बहाना बनाकर लॉकडाउन और कर्फ्यू का उल्लंघन करती पाई गई हैं।

4 thoughts on “सक्षम घर की महिलाएं राशन के लिए सड़क पर उतरी ! 

  1. hello!,I like your writing so much! share we communicate more about your post on AOL? I require an expert on this area to solve my problem. May be that’s you! Looking forward to see you.

Comments are closed.