सिंगरौली एसपी ने इस रक्षित निरीक्षक को किया निलंबित,अमानत में खयानत करने के मामले में हुई कार्रवाई

अमानत में खयानत के मामले में सिंगरौली एसपी ने बड़ी कार्यवाही करते हुए रक्षित निरीक्षक को निलंबित कर दिया है

सिंगरौली , डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) के सिंगरौली (seoni) जिले में पुलिस विभाग के कई बिलो में गड़बड़ी करने के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। जिसके बाद अब इस मामले में सिंगरौली एसपी बीरेन्द्र कुमार सिंह ( Virendra kumar singh) ने रक्षित निरीक्षक आशीष  तिवारी (Ashish Tiwari) पर एक्शन लिया है। सिंगरौली एसपी वीरेंद्र कुमार सिंह ने रक्षित निरीक्षक आशीष तिवारी को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है।

अमानत में खयानत के मामले में सिंगरौली एसपी ने बड़ी कार्यवाही करते हुए रक्षित निरीक्षक को निलंबित कर दिया है.   दरअसल शिकायतकर्ता नीरज सिंह निवासी विन्ध्यनगर सेक्टर नंबर-04 सिंगरौली ने रक्षित निरीक्षक आशीष तिवारी के खिलाफ शासकीय धन राशि के गबन करने कि शिकायत की गई थी जहां जांच के दौरान पाया गया कि रक्षित निरीक्षक आशीष तिवारी जानबूझकर पुलिस विभाग के विभिन्न मदों में स्वास्थ्य की धन राशि का फर्जी तरीके से बिल तैयार कर करीब 1059795 रुपए का फर्जीवाड़ा किया है। रक्षित निरीक्षक आशीष तिवारी ने धनराशि का गबन विनोद कुमार यादव के नाम पर राशि ट्रांसफर कर लिया था। साथ ही 10000 रुपए का ट्रांजैक्शन आशीष तिवारी फोन पे- 9407512100 यूपीआई के जरिए प्राप्त किया था। 

बता दें कि शातिर रक्षित निरीक्षक आशीष तिवारी अपने प्रति कर्तव्य एवं दायित्व का दुरुपयोग करते हुए शासकीय धनराशि का गबन किया है। रक्षित निरीक्षक ने विनोद कुमार यादव के नाम से यूनियन बैंक ऑफ इंडिया शाखा संजय नगर में डमी खाता क्रमांक- 452502010027138  खुलवाया। इस खाते में करीब 1059795 ट्रांसफर करवाएं रक्षित निरीक्षक खुलवाए गए इस खाता नंबर को मोबाइल नंबर- 7000226922  रजिस्टर्ड करवाया गया। यह मोबाइल नंबर आशीष तिवारी पिता देवकीनंदन तिवारी मकान नंबर -241 ग्राम टिकरी पोस्ट टिकुरी राजनगर जिला छतरपुर के नाम से रजिस्टर्ड है. इसी नंबर से इंटरनेट बैंकिंग और यूपीआई समेत अन्य जरिए से गवन कर निजी उपयोग में लिया। भ्रष्ट आरआई आशीष तिवारी की करतूत सामने आने के बाद पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र कुमार सिंह ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। निलंबन अवधि में इनका मुख्यालय रक्षित केंद्र सिंगरौली रहेगा और इन्हें निलंबन अवधि में जीवन निर्वहन भत्ता दिया जाएगा।

इनका कहना है–

2020062766 ormfn314tp2gkjn9z7h4a68grl2pqhmzlvobpw6spc2484662819891516870

रक्षित निरीक्षक आशीष तिवारी ने सरकारी राशि का गबन किया है। उनके द्वारा कूट रचित तरीकों से कई मदों के बिलों में घोटाला हुआ है। रक्षित निरीक्षक को कार्य में लापरवाही बरतने के मामले में निलंबित किया गया है।  वीरेंद्र कुमार सिंह- एसपी- सिंगरौली

Back to top button

Adblock Detected

please dezctivate Adblocker