सिंगरौली- सत्ता का नशा,भाजपा नेता पर लड़की ने अपहरण व दुष्कर्म का लगाया आरोप,पुलिस कार्यवाही पर खड़े हो रहे सवाल ?

बता दें कि सरई थाना क्षेत्र अंतर्गत भाजपा के एक कार्यकर्ता व उसके एक अन्य रिश्तेदार पर एक लड़की ने अपहरण कर नशीला पदार्थ खिलाकर उसके साथ बलात्कार करने का आरोप लगाया है। लड़की के इस आरोप के बाद भाजपा सहित जिले में हड़कंप मच गया।

सिंगरौली– मध्य प्रदेश के सिंगरौली में भाजपा के कार्यकर्ता सत्ता के नशे में चूर होकर गुंडागर्दी,किडनैपिंग और बलात्कार करने से भी पीछे नहीं हट रहे हैं. जिले में भाजपा कार्यकर्ता पुलिस पर भी रौब दिखाकर मामला थाना पहुंचने से पहले रफा-दफा कर देते हैं और यदि बमुश्किल कोई मामला थाने पहुंचा तो पुलिस पीड़ित को ही कसूरवार ठहरा कर पीड़ित को बिना कार्यवाही किए घर भेज देते हैं कुछ ऐसा ही आज सरई थाना क्षेत्र में देखने को मिली हैं।

बता दें कि सरई थाना क्षेत्र अंतर्गत भाजपा के एक कार्यकर्ता व उसके एक अन्य रिश्तेदार पर एक लड़की ने अपहरण कर नशीला पदार्थ खिलाकर उसके साथ बलात्कार करने का आरोप लगाया है। लड़की के इस आरोप के बाद भाजपा सहित जिले में हड़कंप मच गया। फिलहाल अब पुलिस भी इस पूरे मामले को रफा-दफा करने में जुटी है सूत्र बताते हैं कि लड़की अपनी बात पर अड़ी हुई है बावजूद इसके सुबह से शाम तक उसकी f.i.r. तक नहीं लिखी गई। इस पूरे मामले को लेकर थाना प्रभारी संतोष तिवारी से संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया।

पुलिस सूत्र की माने तो पीड़ित केसरवानी परिवार की लड़की को पिछले दिनों भाजपा के पदाधिकारी व उसके एक रिश्तेदार ने घर से अपहरण कर लिया था इस बात की जानकारी जब परिजनों को लगी तो वह सरई थाना में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। जहां लड़की की लोकेशन मंडला में मिलने पर पुलिस ने उसे अभिरक्षा में लेते हुए परिजनों के सुपुर्द कर दिया वही जब इस पूरे मामले में लड़की ने जो बयान दिया वह चौंकाने वाला था।

सूत्रों की माने तो पीड़ित लड़की ने पुलिस को बताया कि सरई क्षेत्र के ही एक भाजपा नेता व उसके नजदीकी रिश्तेदार ने उसे घर से अगवा करते हुए उसे शहर से बाहर ले गए और उसे नशीली पदार्थ खिलाकर बलात्कार की घटना को अंजाम दिया हालांकि कहा यह भी जा रहा है कि पुलिस अभी भी कई आरोपियों को बचाने की जुगत में है। इस पूरे घटनाक्रम में पुलिस कई ऐसे लोगों पर भी दबाव बना रही है जिनका इसके से कोई लेना देना नहीं है फिलहाल देखना होगा कि पुलिस इस घटना में कितने लोगों को आरोपी बनाती है।

Back to top button