uncategorized

प्रेमिका को गैर मर्दों से बातचीत करने के लिए रोका तो मां और भाई के साथ मिलकर कर दी हत्या,

सिंगरौली 1 फरवरी। चितरंगी थाना क्षेत्र के ग्राम बैरिटोला निवासी एक युवक की 26 जनवरी की रात अज्ञात आरोपियों ने हत्या कर शव को बोदाखुटा के जंगल में फेंक दिया था। जहां दूसरे दिन 27 जनवरी को पंचायत के सचिव ने शव को देखे जाने की सूचना थाने में दिया। पुलिस मौके से पहुंच शव को अपने कब्जे में लेते हुए जांच पड़ताल शुरू कर दी। जांच पड़ताल के दौरान पता चला कि पे्रम प्रसंग के चलते युवक की हत्या की गयी थी। चितरंगी पुलिस ने अंधी हत्या की गुत्थी का पर्दाफास करने का दावा किया है। वहीं इस घटना में शामिल 5 मे से 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है।

8 महीने तक भाभी का रेप किया,बडे़ भाई से बोला अब मै शादी करूंगा,केस दर्ज


गौरतलब हो कि ग्राम बैरिटोला निवासी अजमेर बैगा पिता लक्षनधारी बैगा उम्र 32 वर्ष का शव बोदाखुटा गांव के जंगल में 27 जनवरी को मिला था। चितरंगी पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेते हुए प्रथम दृष्टया में माना था कि युवक की हत्या की गयी है। पुलिस इसी आधार पर जांच बढ़ाते गयी और पुलिस को कुछ अहम सुराग मिलने लगे। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मृतक अजमेर बैगा कई लड़कियों से प्रेम करता था। वहीं इसी गांव की एक अन्य लड़की को अपने जाल में फसा लिया था। तो वहीं लड़की भी मृतक से आगे निकली। उसका भी कुछ अन्य युवकों से प्रेम प्रसंग चल रहा था। इसी बात को लेकर प्रेमी प्रेमिका के बीच अक्सर विवाद होता आ रहा था।

ऑटो चालकों की मनमानी,वर्दी बिना नंबर के चल रहे ऑटो,ऑटो में झूल कर करते हैं सफर

पुलिस ने यह भी बताया है कि विवेचना के दौरान पता चला कि युवक के फ्राड को देख युवती ने पूरी कहानी अपनी मॉ को बता दिया था। जहां 26 जनवरी को योजनाबद्ध तरीके से युवती खुद अपनी मां व चचेरे भाई तथा दो अन्य आरोपियों के साथ मिलकर बाजार से लौटते समय युवक पर पत्थर व ब्लेड से हमला करते हुए लहु-लुहान व अधमरा कर दिये। वहीं पुलिस ने यह भी बताया है कि युवक के गले पर ब्लेड से प्रहार कर मौत की नींद सुलाते हुए शव को जंगल में फेंक दिया। चितरंगी पुलिस ने आगे बताया कि पुलिस अधीक्षक वीरेन्द्र सिंह व एएसपी अनिल सोनकर व एसडीओपी एसएन सिंह बघेल को पूरे घटनाक्रम से अवगत कराते हुए टीआई आरपी रावत व उप निरीक्षक मनोज सिंह चौहान ने जांच पड़ताल तेज कर दिया। संदेही आरोपियों की धर पकड़ शुरू की गयी जिसमें 20 वर्षीय युवती व उसकी मॉ पर्वतिया तथा युवती का चचेरे भाई रमेश बैगा निवासी बैरिटोला को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की गयी। जहां आरोपियों ने युवक की हत्या करना कबूल कर लिया।

एमपी गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंच से तहसीलदार को पुकारा,नहीं आए तो वही किया सस्पेंड

बताया कि इस घटना में रमेश बैगा के दोस्त हीरामणि सिंह गोड़ व भैयालाल अंजाम दिये थे। भी शामिल थे। उक्त घटना में 5 आरोपी शामिल हैं। पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके विरूद्ध भादवि की धारा 302, 201 के तहत मामला दर्ज कर न्यायालय में पेश किया। जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है। वहीं दो आरोपी भैयालाल व हीरामणि फरार हैं जिनकी तलाश पुलिस कर रही है। उक्त अंधी हत्या की गुत्थी सुलझाने में चितरंगी थाना प्रभारी टीआई आरपी रावत, उप निरीक्षक मनोज सिंह चौहान, आरक्षक अनूप यादव, चन्द्रकेश यादव, महिला आरक्षक मोनिका तिवारी, आरक्षक विशेषर साकेत, अर्जुन एवं सुरेश परस्ते की भूमिका सराहनीय रही है।

महिलाओं के साथ मारपीट या छेड़छाड़ की तो हो जाएगा लाइसेंस निरस्त

शादीशुदा था मृतक अजमेर
पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मृतक युवक शादीशुदा था। उसकी पहली पत्नी की मौत हो चुकी थी तो वहीं दूसरी पत्नी शादी के कुछ दिन बाद छोड़कर चली गयी। इसके बाद से वह कई लड़कियों के संपर्क में आने लगा। जहां अपने गांव की ही एक लड़की को प्रेम के जाल में फसा लिया और इसकी जानकारी उक्त युवती को हुई तो वह विरोध करने लगी। हालांकि संबंधित युवती भी कई लड़कों से बातचीत करती थी। मामला यहीं से बिगड़ गया और योजनाबद्ध तरीके से अजमेर को पत्थर व ब्लेड से हमला कर मौत की नींद सुला दिये।

MP के गृहमंत्री का खिलाड़ियों के लिए बड़ा तोहफा,ऐसे मिलेगी बिना परीक्षा दिए सरकारी नौकरी,गृह मंत्री को सुनें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button