रैपिस्ट का रसूख,जेल से बाहर आते ही शहर में लगाया “भैया इस बैक”के पोस्टर, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार

एबीवीपी के पूर्व नेता शुभांग गोटिया को रेप मामले में हाईकोर्ट से जमानत मिल गई थी, जिसके बाद शुभम गोटिया ने शहर में लगे 'भैया इज बैक' के पोस्टर, पीड़िता सुप्रीम कोर्ट पहुंची, जहां सुप्रीम कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए न केवल शुभांग गोटिया को फटकार लगाई गई है और साथ ही राज्य सरकार से जवाब तलब गया है.

जबलपुर – मध्य प्रदेश के जबलपुर में रेप के एक मामले में पकड़े गए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पूर्व नेता शुभंग गोटिया को हाईकोर्ट से जमानत मिल गई, जिसके बाद शुभम गोटिया ने हाईकोर्ट को चुनौती देते हुए शहर में “भैया इज बैक” के पोस्टर लगाए। आदेश इसके लिए सोमवार को सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया जहां पूरे मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने शुभांग गोटिस को न सिर्फ फटकार लगाई बल्कि राज्य सरकार से जवाब भी मांगा.

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना, न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ ने मामले की सुनवाई करते हुए शुभांग गोटिया द्वारा शहर में मकर संक्रांति पर लगाए गए होर्डिंग “भैया इज बैक” पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए एक नोटिस जारी कर पूछा कि उनका क्यों जमानत रद्द नहीं होनी चाहिए, CJI एनवी रमना ने आरोपी के वकील से पूछा है कि यह “भैया इस बैक” क्या है। अपने भाई को अभी एक हफ्ते के लिए सावधान रहने के लिए कहें।

सीजीआई एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस मामले में मध्य प्रदेश सरकार से भी जवाब मांगा है।उच्च न्यायालय द्वारा दी गई जमानत को निरस्त करने की मांग को चुनौती देते हुए पीड़िता ने याचिका में कहा कि उच्च न्यायालय ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया है। यहां तक ​​कि आरोपी के प्रभावशाली व्यक्ति होने और पार्टी से जुड़े होने के बाद भी आरोपी के पुराने इतिहास पर विचार नहीं किया।

आरोपी शुभांग गोटिया ने 23 वर्षीय पीड़िता से 2018 में अपने कॉलेज के दिनों में दोस्ती की थी। बाद में, उन्हें प्यार हो गया। पीड़िता ने यह भी आरोप लगाया कि उसके परिवार के सदस्यों ने गर्भवती होने के बाद उसे गर्भपात के लिए मजबूर किया। पंजीकरण करते समय उसे गिरफ्तार कर लिया गया। उसके खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज किया और फिर नवंबर 2021 में उसे उच्च न्यायालय ने जमानत दे दी।

Back to top button