uncategorized

सीधी पुलिस ने ऐसे बचा ली आत्महत्या करने जा रही लड़की की जान,प्यार में मिला था धोखा

दो परिवारों की आंतरिक समस्याओं का निराकरण कर खुशी खुशी किया घर रवाना  पुलिस तथा सखी सेंटर के संयुक्त प्रयास का नतीजा


सीधी — पुलिस अधीक्षक के मार्गदर्शन व सखी सेंटर सीधी के प्रयास व समझाइस की बदौलत दो बिखरे हुए परिवारों की आपसी दरार को खत्म करते हुए एक करवाया है। 
सुसाइड के मुहाने से निकाला बाहर
इस सार्थक प्रशासनिक पहल के पहले मामले में शीला (परिवर्तित नाम) अपने हाथ में सुसाइट नोट लेकर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सीधी के पास गई थी, जिसे अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सीधी द्वारा वन स्टाप सेंटर सीधी भेजा गया। वन स्टाप सेंटर (सखी सेंटर) सीधी में बालिका से पूछताछ व काउंसलिंग शुरू की गई। व्यथित बालिका की उम्र 17 वर्ष थी उसका कहना था कि मैं एक लड़के के प्रेम में पड़कर 6 माह पहले अपने माता पिता की मर्जी के विरुद्ध अपना घर छोड़ कर शहर में किराए का कमरा ले कर रहती थी। सिलाई कर के अपना खर्च चलाती रही लेकिन अब वो लड़का भी मुझसे दूरी बना लिया और पिता जी घर में रहने नहीं देंगे इसलिए मैं क्षुब्ध होकर आत्महत्या करना चाहती हूं और चाहती हूं कि मेरे न रहने पर किसी को दोषी न ठहराया जाए यह मेरा स्वयं का निर्णय है।     

सिंगरौली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप, जानिए कब और कैसे मिलेगी वैक्सीन        

बालिका के पास उस सुसाइट नोट की कई प्रतियां थीं जिसे कलेक्टर व एसपी को दे कर आईं थी और अपने पिता का नाम और पता कुछ भी नहीं बता रही थी एवं 2 दिन से खाना भी नहीं खाई थी। वन स्टाप सेंटर की काउंसलर द्वारा मित्रवत व्यवहार करके उससे पिता का नाम व मोबाइल नंबर पूछा गया तथा काफी देर तक काउंसलिंग की गई। शीला के पिता से बात करने पर उन्होंने गुस्से में पहले तो मना कर दिया कि उसके बारे में कोई बात नहीं करनी है उसके बाद फोन पर ही शीला के पिता की काउंसलिंग की गई और बताया गया कि अपनी नफरत से आप अपनी बच्ची खो सकते हैं। शीला के पिता फोन पर ही फूट फूट कर रोने लगे जिसे सुनकर शीला भी रोने लगी। उन्होंने बताया कि मेरी बड़ी और लाडली बेटी शीला है लेकिन मेरी बात नहीं मानी इस लिए मैं नाराज था।       

नाबालिक के साथ फूफा सहित अन्य दो लोगों ने किया सामूहिक दुष्कर्म,घटना के बाद आरोपित फरार

दोनों पिता और बेटी की काउंसलिंग की गयी। पिता का कहना था कि अभी भी आप लोग मेरी बेटी को घर भेजवा दीजिए मैं अपनी बेटी खोना नहीं चाहता हूं। पिता की बात सुनकर शीला भी भावुक हो गई और पुनः उसमे जीने इच्छा जाग गई। शीला को सखी सेंटर में आश्रय के तहत रखा गया और गहन एवं भावनात्मक रूप से काउंसलिंग किया गया। बालिका अपने पिता की छोटी नाराजगी को नफरत समझ बैठी थी, पुनः फोन पर उनका प्यार पाकर उसकी प्यारी सी मुस्कान वापस आ गई क्यूंकि उसे देखने से ऐसा लग रहा था कि पिछले कई दिनों बालिका मानसिक तनाव से गुजर रही थी। शीला के पिता बाहर कहीं काम करते थे इसलिए शीला की मां को बुला कर उन्हे उनकी बेटी सुपुर्द किया गया। उस वक्त शीला खिलखिलाती हुई अपनी मां से लिपट गई और दोनों की आंखे नम हो गईं। दोनों को उचित परामर्श देते हुए सखी सेंटर सीधी से विदा किया गया।
देवर-भाभी के मामले को निपटाया ।

भाजपा नेता ’चिंटू’ की दबंगई, बीच चौराहे पर शागिर्दो के साथ तलवार से काटा केक,वीडियों देखें,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button