uncategorized

सीधी में खाद्यान्न घोटाला,अधिकारी कार्यवाई से कर रहे परहेज ?


सीधी– शासकीय उचित मूल्य की दुकान चंदवाही में करीब 200 क्विंटल से ज्यादा का खाद्यान्न घोटाला किया जा चुका है इसके बाद भी विक्रेता के खिलाफ कार्यवाही नहीं की जा रही है। इस मामले की शिकायत होने पर जिम्मेदार अधिकारी जांच करने से परहेज कर रहे हैं। मालुम हो कि इस दुकान में विक्रेता द्वारा नियमों को दरकिनार कर खाद्यान्न घोटालो में माहिर रहे हैं। जिनके द्वारा हितग्राहियों के नाम से खाद्यान्न तो निकाला गया लेकिन उन्हे वितरित नहीं किया गया। 

CM शिवराज ने सिंधिया की दो और मांगे की पूरी,महाराज का बढ़ा कद

बता दें कि एसडीएम सिहावल सहित खाद्य अधिकारी सीधी एवं नायब तहसीलदार बहरी से शिकायत की जा चुकी है। जिसके लिए नायब तहसीलदार हिमांशू शुक्ला द्वारा जांच का आदेश जारी किया गया लेकिन अभी तक जांच नहीं हो पाई है। बताया गया है कि शासन के अनुसार पांच किलो ग्राम प्रति सदस्यों को खाद्यान्न मिलने का प्रावधान है लेकिन चंदवाही में पदस्थ विक्रेता द्वारा तीन किग्रा प्रति सदस्यों को खाद्यान्न वितरित किया गया। इसी तरह पीएमजी योजना के तहत चावल और गेहूं का वितरण माह जुलाई 2020 को जारी आदेश के तहत नहीं किया गया। कैरोसीन को लेकर भी जो शिकायतें आई हैं उसमें 29 रूपये प्रति लीटर की जगह 40 रूपये लिया जा रहा है। हालांकि बीते तीन महीनों से कैरोसीन का वितरण नहीं हो पा रहा है लेकिन इसके पहले जो कैरोसीन आया था उसमे मनमानी वसूली की गई है।

रिश्वत लेने के आरोप में थाना प्रभारी, सब इंस्पेक्टर सहित आरक्षक सस्पेंड

इतना ही नहीं चंदवाही में विक्रेता द्वारा 2 सौ क्विंटल पीओएफ मशीन में स्टाक है लेकिन विक्रेता के पास जानकारी होना चाहिए परन्तु उनके द्वारा गलत जानकारी देकर खाद्यान्न का घोटाला किया गया है ।वहीं चंदवाही एवं मौहार में विक्रेता ने चना दो माह का बाटा गया लेकिन पांच माह का चना आया था वह नहीं दिया गया। इसी तरह दाल में भी घपलेबाजी के आरोप हैं। शासकीय उचित मूल्य की दुकान चंदवाही में पदस्थ विक्रेता पर आरोप है कि वो फर्जी रिकार्ड तैयार करने में माहिर हैं। जो हितग्राहियों के आईडी लेने के बाद उन्हे खाद्यान्न नहीं देते बल्कि सभी हितग्राहियों के नाम पर खाद्यान्न का वितरण का हवाला दे दिया जाता है। हालांकि इसकी शिकायत आनंद योगी द्वारा हेल्पलाइन 181 में किया जा चुका है। इसके बाद भी कोई पहल नहीं हो पा रही है। जाहिर है कि कहीं न कहीं राजनीतिक दवाब के कारण विक्रेता पर कार्यवाही करने से परहेज किया जा रहा है। 

सिंगरौली में रेप पीड़िता न्याय के लिए लगा रही थाने के चक्कर,अफसरों तक पहुंची शिकायत,10 दिन बाद भी नही दर्ज हुई FIR

img 20210121 wa00281631597446426712865

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button