13 वर्ष से फरार स्थाई वारंटी व 1 स्थाई वारंटी सहित गुमशुदा लड़की चंद घंटों के भीतर पकड़ाई, - विंध्य न्यूज़

सिंगरौली – बैढ़न थाना पुलिस ने 13 वर्ष से फरार स्थाई वारंटी व 1 स्थाई वारंटी सहित एक गुमशुदा लड़की को चंद घंटों के अंदर पकड़ने में सफलता हासिल की है। बैढ़न थाना प्रभारी अरुण पांडे ने बताया कि कई मामलों में लिप्त आरोपी राजू उर्फ वृंदावन वसोर करीब 13 वर्ष से फरार चल रहा था जिसे मुखबिर की सूचना पर छत्तीसगढ़़ बॉर्डर से लगे सीमावर्ती गांव जल हथिनी से गिरफ्तार से गिरफ्तार किया गया जबकि एक अन्य मामले में बदमाश संतोष बसोर को बिहरा से गिरफ्तार किया गया है एक गुमशुदा लड़की को ढूंढने में सफलता मिली है।


मिली जानकारी के अनुसार एसपी टी.के विद्यार्थी के दिशा निर्देश व एसपी प्रदीप सिन्डे, सीएसपी देवेंद्र कुमार पाठक के मार्गदर्शन में बैढ़न थाना प्रभारी अरुण पान्डे नेतृत्व में कई मामलों में 13 वर्ष से फरार चल रहे  स्थाई वारंटी राजू उर्फ वृंदावन वसोर  पिता कृपाल बसोर उम्र 65 वर्ष निवासी बिहरा थाना-बैढ़़न,जिला –सिंगरौली को मुखबिर की सूचना पर छत्तीसगढ़़ बॉर्डर से लगे सीमावर्ती गांव जल हथिनी से गिरफ्तार से गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया।

कोतवाली थाना प्रभारी अरुण पांडे ने एक अन्य मामले में फरार बदमाश संतोष वषोंर पिता भागीरथ वषोंर उम्र 35 वर्ष निवासी बिहरा  जो कि घटना के बाद सुख फरार चल रहा था आरोपी इतना शातिर था कि वह अपना नाम हुआ भेष बदलकर रह रहा था।  प्रशासन में आरोपी के खिलाफ ₹2000 का इनाम भी घोषित किया था। आरोपी हाल ही में अपने गांव बिहारा आया था। जिसे कोतवाली पुलिस ने अपनी मुखबिर की सूचना से गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया।

बताया जा रहा है कि हाल ही में सूचना कर्ता  प्यारे लाल अहिरवार निवासी शर्मा कॉलोनी बैढ़न ने इस आशय से शिकायत की थी कि उनकी लड़की आरती अहिरवार उम्र-22 वर्ष रात के समय घर में बिना बताए कहीं चली गई रिपोर्ट के आधार पर बैढ़न थाना पुलिस तत्काल कार्यवाही करते हुए मुखबिर की सूचना पर चंद घंटों में ही गुमशुदा लड़की को जब्त तक कर परिजनों के सुपुर्द कर दिया। पुलिस की इस कार्यवाही से परिजनों में पुलिस के प्रति विश्वास जगह है।


इनकी रही भूमिका – कोतवाली थाना प्रभारी अरुण पान्डे के नेतृत्व में उप निरीक्षक मुकेश झारिया, सहायक उपनिरीक्षक ए.एल अहिरवार,प्रधान आरक्षक पप्पू सिंह,अरविंद द्विवेदी, महेश पटेल, पंकज सिंह एवं मनीष शुक्ला की महत्वपूर्ण भूमिका रही।