CM शिवराज के मंसूबों पर गढ़वा थाना पुलिस फेर रहे पानी,सोन नदी के कई घाटो से रेत की करा रहे चोरी

बडऱम-खैड़ार एवं गढ़वा घाट से फिर शुरू हुई रेत की चोरी
पुलिस व अभ्यारण्य अमले की सांठ-गांठ, शाम ढलते ही रेत कारोबारी हो जा रहे सक्रिय,खाकी बर्दी करती है पहरेदारी

सिंगरौली 19 नवम्बर। सीएम शिवराज सिंह चौहान भले ही दम भरते हैं कि प्रदेश भर में सोन नदी से रेत का उत्खनन बंद है लेकिन सिंगरौली जिले के गढ़वा पुलिस सीएम के मंसूबों पर पानी फेर रहे हैं। यहां दिन के उजाले और रात के अंधेरे में बेधड़क बेखौफ रेत का उत्खनन व परिवहन किया जा रहा है जी हां गढ़वा थाना क्षेत्र के बडऱम-खैड़ार एवं गढ़वा घाट से रेत का परिवहन करने आधा सैंकड़ा ट्रैक्टर व 407 वाहन लगे हुए हैं। रेत के अवैध परिवहन में लगे वाहन दिन के उजाले में कम लेकिन दिन ढलते ही सड़क पर खर्राटे मारने लगते हैं

नौडिहवा पुलिस चौकी क्षेत्र के बडऱम-खैड़ार एवं गढ़वा घाट के सोन नदी से रेत का अवैध उत्खनन व परिवहन व्यापक पैमाने पर शुरू हो गया है। रेत की चोरी कराने के लिए किसका संरक्षण मिला है अब यह धीरे-धीरे मामला उजागर होने लगा है। आरोप है कि नौडिहवा चौकी के कुछेक चर्चित पुलिस कर्मी रेत की चोरी कराने रात के समय पहरेदारी भी कर रहे हैं। फिर भी चौकी प्रभारी बेसुध हैं। कहा जा रहा है कि पुलिस जब चाहेगी तभी ऐसे कारोबारियों पर कार्रवाई हो पायेगी

दरअसल कलेक्टर राजीव रंजन मीना एवं पुलिस अधीक्षक वीरेन्द्र कुमार सिंह ने सख्त लहजे में कहा है कि किसी भी हालत में रेत माफियाओं को पनपने नहीं दिया जायेगा और उनके विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जायेगी। थाना व चौकी प्रभारियों को निर्देश दिये गये हैं की खनिज माफियाओं के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करें। किन्तु गढ़वा थाना क्षेत्र के नौडिहवा पुलिस व सोन घडिय़ाल अभ्यारण्य बीछी, बगदरा अमले पर यह निर्देश बेअसर साबित हो रहा है। इस इलाके में व्यापक पैमाने पर सोन नदी से रेत की चोरी की जा रही है। सूत्रों के मुताबिक बडऱम, खैड़ार व गढ़वा घाट के सोन नदी से एक-एक दिन के अंतराल में दो-चार नहीं बल्कि आधा सैंकड़ा ट्रैक्टर व 407 वाहन परिवहन करने में लग जाते हैं। रेत का यह खेल रात के समय शुरू होता है जहां धड़ल्ले के साथ सोन नदी से रेत लोड कर परिवहन कर रहे हैं। सूत्रों का यहां तक कहा है कि रेत के इस खेल में केवल सोन घडिय़ाल व पुलिस अमले की मिलीभगत है। जिनके संरक्षण में यह कारोबार खूब फल फूल रहा है। कार्रवाई के नाम पर महज खानापूर्ति करते हुए गढ़वा एवं नौडिहवा पुलिस पीठ अपनी पीठ थपथपाने लगी रहती है। फिलहाल नौडिहवा चौकी क्षेत्र के सोन नदी से रेत की हो रही अवैध निकासी कहीं न कहीं वरिष्ठ अधिकारियों को एक चैलेंज के समान है। कारोबारियों पर सख्ती के साथ कार्रवाई न किये जाने से प्रभारी की कार्यप्रणाली पर कई तरह की ऊंगलिया उठने लगी हैं। वहीं संभ्रांत नागरिक भी गांवों के मार्गों से रेत लेकर गुजरने वाले टै्रक्टर के वाहन चालकों से परेशान हो चुके हैं। उनका आरोप है कि रात के समय टै्रक्टर चालक नींद खराब कर दे रहे हैं। नागरिकों ने कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक का ध्यान आकृष्ट कराते हुए ऐसे रेत कारोबारियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई किये जाने की मांग की है।

दो हजार रूपये दो रात भर परिवहन करो…!
दो हजार रूपये दो और रात भर रेत का खूब परिवहन करो कोई रोकने टोकने व पकडऩे नहीं आयेंगे। इस तरह के हाल नौडिहवा चौकी क्षेत्र का है। जहां रात के समय टै्रक्टर व मिनी ट्रक मालिकों को खाकी बर्दी ने छूट दे रखा है। रात के समय आधा सैकड़ा वाहन इसी कार्य में लग जाते हैं। सूत्र यहां तक बता रहे हैं कि चर्चित पुलिस कर्मी रात के समय पहरेदारी भी करते हैं और चितावल सोन पुल से लेकर रेत खदानों तक किराये पर भी लोग रतजगा करते हैं 500 रूपये पर व्यक्ति को रेत कारोबारी पारिश्रम के रूप में भुगतान भी कर रहे हैं। पुलिस रेत कारोबारियों पर इतनी मेहरबान क्यों है यह बात अब किसी से छुपी नहीं है। धीरे-धीरे इनकी करतूतें भी उजागर होने लगी हैं।

Back to top button

Adblock Detected

please dezctivate Adblocker