MP: मामा का बुलडोजर हुआ बेकाबू? पीएम आवास योजना से बने घर को किया जमीदोज

PM आवास योजना की लाभार्थी हसीना ने बताया कि सोमवार सुबह नगर निगम की टीम बुलडोजर लेकर पहुंची और मिनटों में मकान को ध्वस्त कर दिया.

Madhya Pradesh के खरगोन में रामनवमी पर हिंसा हुई थी और हिंसा के बाद मध्य प्रदेश सरकार आरोपियों के खिलाफ बुलडोजर कार्रवाई कर रही है. कई लोगों के घर और दुकानों को तोड़ा जा रहा है और बताया जा रहा है कि इन घरों को अतिक्रमण कर बनाया गया है. इस दौरान प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने एक घर में भी छापेमारी कर तोड़फोड़ की गई. जिला प्रशासन की ओर से खरगोन के खसखसवाड़ी इलाके में यह कार्रवाई की गई.

दस्तावेजों के अनुसार बिड़ला मार्ग पर स्थित मकान पति की मृत्यु के बाद प्रधानमंत्री आवास योजना की मूल लाभार्थी हसीना फाखरू के नाम पंजीकृत था। 60 वर्षीया हसीना ने रोते हुए कहा, ”सोमवार की सुबह नगर निगम कर्मियों की एक टीम बुलडोजर लेकर पहुंची. उन्होंने मुझे धक्का दिया और बाहर की दीवार पर मिटा दिया जहां लिखा था कि आवास योजना के तहत घर बनाया गया और मिनटों में घर को ध्वस्त कर दिया।”

यह अवैध संपत्तियों के खिलाफ अभियान के तहत क्षेत्र में जिला प्रशासन द्वारा ध्वस्त किए गए 12 घरों में से एक था। रविवार को हुई झड़प के बाद शहर में चार जगहों पर कुल 16 घर और 29 दुकानें ध्वस्त कर दी गईं.

हसीना और उनके परिवार में पांच बेटे और दो बेटियों समेत कुल 7 लोग शामिल हैं. हसीना के 35 वर्षीय बेटे अमजद खान (जो मजदूरी का काम करते हैं) ने कहा, ‘2020 तक हम प्लॉट पर मिट्टी के घर में रहते थे। 2020 में जब आवास योजना को मंजूरी मिली, तो हमने एक घर बनाया। हमें सरकार से 2.5 लाख रुपये मिले और घर बनाने के लिए और 1 लाख रुपये बचाए।”

अमजद द्वारा भूमि की पुष्टि के लिए जमा किए गए अभिलेखों में एक संपत्ति कर रसीद, तहसीलदार को एक आवेदन, एक पात्रता शपथ पत्र और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का एक पत्र शामिल है जिसमें सीएम ने उन्हें पीएम आवास योजना के लाभार्थी होने पर बधाई दी है। परिवार के अनुसार, हसीना को हिंसा से तीन दिन पहले 7 अप्रैल (गुरुवार) को नोटिस दिया गया था, जिसमें उन्हें तीन दिनों के भीतर भूमि के स्वामित्व या विध्वंस का विवरण देने के लिए कहा गया था।

Back to top button