MP-1274 करोड़ में बन रहा एशिया का पहला फ्लाइंग जंक्शन,5 दिशाओं से पटरी पर आएंगे ट्रेन, ऐसा होगा नजारा

इस ब्रिज का रखरखाव ऑनलाइन किया जाएगा। सिग्नल डिजिटल होगा। पुल के नीचे एक स्टेशन और दूसरी लाइन होगी। यह देश ही नहीं एशिया का सबसे लंबा ब्रिज होगा। इस पुल के निर्माण के परिणामस्वरूप मालगाड़ी की औसत गति 80 किलोमीटर प्रति घंटा है।

कटनी उड़ता जंक्शन : देश के सबसे बड़े रेलवे फ्लाईओवर (कटनी ग्रेड सेपरेटर) का निर्माण मध्य प्रदेश (भारत का सबसे बड़ा ग्रेड डिवाइडर कटनी) के कटनी (कटनी उड़ता जंक्शन) पर चल रहा है. पूरे दो साल की योजना के बाद, निर्माण 20 दिसंबर, 2020 को शुरू हुआ। 1247 करोड़ रुपये की लागत से बना कटनी ग्रेड सेपरेटर 676 खंभों पर टिका होगा। ग्रेड सेपरेटर की कुल लंबाई 34.09 किमी है। इतना लंबा बाइपास देश में और कहीं नहीं है। 4.62 किमी लंबा पुल (भारत का सबसे लंबा फ्लाईओवर) वर्तमान में केरल इडापल्ली के वलरपदम में बना है. ग्रेड सेपरेटर का रखरखाव ऑनलाइन होगा. यह देश का ही नहीं बल्कि एशिया का सबसे लंबा रेलवे ब्रिज होगा. इस परियोजना को ‘उड़ता जंक्शन’ के नाम से भी जाना जाता है.

इस ग्रेड सेपरेटर का निर्माण बिलासपुर अंचल के झालावारा और कटनी-सतना रेल मार्ग पर पटवार रेलवे स्टेशन के बीच किया जाएगा. इससे बिलासपुर से सतना, इलाहाबाद तक मालगाड़ियों की आवाजाही में आसानी होगी। कटंगी और मझगवां के बीच अप और डाउन लाइन को ग्रेड सेपरेटर बनाया जाएगा। कटंगी, झालावारा, मझगवां और मुदवाड़ा स्टेशनों के पास 3.5 किमी रिटेनिंग वॉल का निर्माण किया जाएगा। मझगवां में ग्रेड सेपरेटर और प्वाइंट पर न्यू मझगवां नाम का नया स्टेशन भी बनाया जाएगा।

img 20220113 wa00092501822476611033129

रेलवे जंक्शन से पांचों दिशाओं में यात्री ट्रेनें जमीन पर बिछी पटरी पर दौड़ेगी, तो मालगाड़ी ऊपर रेलवे फ्लाईओवर पर चलेगी. रेलवे ओवरब्रिज की कुल लंबाई 34.09 किलोमीटर होगी. अप लाइन में लंबाई 16.08 किलोमीटर, तो डाउन लाइन में लंबाई 18.01 किलोमीटर होगी. ब्रिज को कटनी न्यू जंक्शन के ऊपर से निकालते ही बायपास बनाया जाएगा. ब्रिज के खंभों पर ट्रेन का पड़ने वाला प्रेशर नापने के लिए डिवाइस सेटअप किया जाएगा. ब्रिज के नीचे स्टेशन और दूसरी लाइन होगी. पहले ग्रेड सेपरेटर लंबाई 21.5 किमी थी, फिर फाइनल सर्वे के बाद लंबाई को संशोधित कर 24.5 किमी कर दिया गया था. अप और डाउन मिलाकर ग्रेड सेपरेटर की लंबाई रेलवे पटरी पर 34.09 किलोमीटर होगी.

रेलवे के मुताबिक जहां कई रेलवे क्रॉस करते हैं वहां ग्रेड सेपरेटर बनाए गए हैं। ये है कटनी का हाल इस कारण स्टेशन पर खड़ी ट्रेनें 20 से 45 मिनट लेट होती हैं। रेलवे अब देरी से बचने के लिए ग्रेड सेपरेटर जैसी विशेष परियोजनाएं लेकर आया है। इस परियोजना को उदता जंक्शन भी कहा जाता है। पहला ग्रेड डिवाइडर 1897 में लंदन में बनाया गया था। रेलवे विभाग, लंदन ने इसे फ्लाई जंक्शन नाम दिया है।

img 20220113 wa00074491017679571008916

बिलासपुर-कटनी-बीना रेलवे ट्रैक को मालभाड़ा ढुलाई के मामले में भारतीय रेलवे का गोल्डन ट्रैक कहा जाता है. न्यू कटनी जंक्शन (एनकेजे) से ट्रेनों की निकासी बड़ी रेलवे के बड़ी चुनौती है. कटनी में सतना, जबलपुर, सिंगरौली, बीना और बिलासपुर मिलाकर पांच दिशाओं से अप और डाउन लाइन में यात्री ट्रेनों के साथ ही गुड्स ट्रेनों का आवागमन होता है, जिससे ट्रैफिक पर बेहद दबाव होता है. मालगाड़ी ट्रेनों को घंटे पासिंग नहीं मिलती है, जिससे बहुत नुकसान होता है. कटनी ग्रेड सेपरेटर का निर्माण पूरा होने के बाद सिंगरौली और बिलासपुर की ओर आने वाली कोयला लोड मालगाड़ी ब्रिज की मदद से सीधे बीना की ओर जाएंगी. साथ ही यात्री ट्रेनों की भी आवाजाही सुगम होगी.

इस ब्रिज का रखरखाव ऑनलाइन किया जाएगा। सिग्नल डिजिटल होगा। पुल के नीचे एक स्टेशन और दूसरी लाइन होगी। यह देश ही नहीं एशिया का सबसे लंबा ब्रिज होगा। इस पुल के निर्माण के परिणामस्वरूप मालगाड़ी की औसत गति 80 किलोमीटर प्रति घंटा है। इस बाईपास से लगभग सभी मालगाड़ियां गुजरेंगी। ट्रेन के इंतजार में रेलवे गेट पर फंसे यात्रियों का भी समय बचेगा।

Back to top button