uncategorized

SIDHI: दस हजार की रिश्वत लेते धरी गई महिला बाल विकास अधिकारी

सीधी– जनपद परिसर मझौली में लोकायुक्त टीम द्वारा एक पखवाड़े के अंदर दूसरी बड़ी कार्यवाही की गई जिसमें परियोजना अधिकारी महिला बाल विकास ललिता मिश्रा को परियोजना कार्यालय में ही 10 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों दबोच लिया गया। 

प्राप्त जानकारी के मुताबिक शिकायतकर्ता अरुणा साहू ग्राम पंचायत धनौली में आंगनवाड़ी केंद्र क्रमांक 04 में बतौर आगनवाड़ी कार्यकर्ता के रूप में पदस्थ हैं एवं उसी ग्राम में शिकायतकर्ता की दूसरी बहन और मौसी भी कार्यकर्ता के रूप में कार्य कर रही हैं और शिकायतकर्ता के परिजनों द्वारा  स्व सहायता समूह के माध्यम से आंगनबाड़ी केंद्रों में सांझा चूल्हा योजना के तहत खाना-नाश्ता देने की जिम्मेवारी भी सौंपी गई है। इसी बात को लेकर परियोजना अधिकारी द्वारा बार-बार दबाव बनाया जाता रहा कि एक ही परिवार से तुम तीन आंगनवाड़ी कार्यकर्ता हो और सांझा चूल्हा का भी लाभ ले रहे हो, इसलिए प्रत्येक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से दो-दो हजार के मान से छः हजार एवं सांझा चूल्हा के नाम पर चार हजार कुल दस हजार रुपए प्रतिमाह देने का दबाव बनाया जाता रहा। जिससे व्यथित होकर शिकायतकर्ता ने लोकायुक्त कार्यालय रीवा में शिकायत किया और उसी के आधार पर लोकायुक्त टीम प्रमुख प्रवीण सिंह परिहार डीएसपी व डीएस मरावी निरीक्षक एवं 16 सदस्यीय टीम द्वारा मझौली परियोजना कार्यालय के अंदर  दोपहर 12 बजे के लगभग रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरप्त में लिया गया।

खुशखबरी : मध्यप्रदेश में इस दिन से लगने शुरू हो जाएगी कोरोना वैक्सीन, CM शिवराज ने कहा हम तैयार हैं


पहले भी अपने कारनामों से चर्चित रहीं महिला बाल विकास अधिकारी                   लगभग दो वर्षों से मझौली में पदस्त महिला बाल विकास अधिकारी ललिता मिश्रा अपने शुरूआती समय से ही आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं व समूह संचालकों को बेवजह दवाब बनाने व पैसे के लेन-देन को लेकर सुर्खियों में रही हैं यह अलग बात है की कोई भी उनके मनमानी पर अंकुश लगाने की हिम्मत नही जुटा पाया, पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के इस साहसिक कदम ने लोंगों को आईना दिखाने का कार्य किया।

रोजाना 1 ग्लास कुत्ते का यूरिन पीती है यह खूबसूरत लड़की,इसके पीछे छुपा है बड़ा राज


इनका कहना है
परियोजना अधिकारी द्वारा हम लोगों के ऊपर इस बात पर दबाव बनाया जाता था कि तुम्हारे एक ही परिवार से 3 लोग आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हैं जो गलत है इसलिए रिश्वत देना पड़ेगा नहीं तो नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा इसी से परेशान होकर मैंने लोकायुक्त की मदद ली।अरुणा साहू शिकायत कर्ता

इंदौर संभाग के झाबुआ जिले में कड़कनाथ मुर्गी में मिला बर्ड-फ्लू वायरस

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button