CM शिवराज का ऐलान-युवा बनाएंगे मध्यप्रदेश को आत्मनिर्भर, हर महीने दे रहे 1 लाख लोगो को रोजगार

पूरे प्रदेश में मनाया गया रोजगार दिवस, सरकार का दावा- दो महीने में पांच लाख से ज्यादा को दिया रोजगार, हर महीने मनाएंगे रोजगार दिवस

भोपाल। मुख्यमत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऐलान किया है कि अब हर महीने एक लाख युवाओं को कम से कम रोजगार दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि देशभर में स्वामी विवेकानंद (Swami vivekanand) की जयंती को नेशनल यूथ डे (National youth Day) के रूप में मनाया जा रहा है। इसी बीच मध्य प्रदेश में CM Shivraj द्वारा रोजगार दिवस (Employment Day) के मौके पर मध्य प्रदेश के युवाओं (MP Youth) के लिए बड़ी घोषणा की गई है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत और आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण में युवा महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन कर रहे हैं। रोजगार आज एक प्रमुख आवश्यकता है वहीं बीते दो महीनों में सवा 5 लाख युवाओं को विभिन्न योजनाओं के तहत रोजगार और वित्तीय सहायता प्रदान की गई है इसके साथ ही आत्मनिर्भर बनने की दिशा में युवाओं को बेहतर अवसर प्रदान किए गए हैं।

बता दें कि शिवराज ने बुधवार को मिंटो हॉल में रोजगार दिवस के मुख्य समारोह में कही। यहां शिवराज ने कहा कि रोजगार आज एक प्रमुख आवश्यकता है। अभी प्रतिमाह एक लाख लोगों को रोजगार से जोडऩे और आर्थिक उन्नयन का लाभ देने के लक्ष्य के मुकाबले दोगुनी उपलब्धि प्राप्त हुई है। प्रतिमाह ढाई लाख लोगों को लाभान्वित करने में सफलता मिली है। अब प्रत्येक माह रोजगार दिवस मनाया जाएगा। हमारे नौजवानों को उनकी योग्यता के अनुरूप रोजगार मिले, इसके लिए कोई कसर नहीं छोड़ेगे। शिवराज ने विभिन्न योजनाओं के हितग्राहियों से संवाद भी किया। साथ ही राशि मंजूरी के प्रमाण-पत्र दिए।नेशनल यूथ डे (National youth Day) पर बड़ी घोषणा करते हुए CM Shivraj ने कहा कि अब हर महीने रोजगार दिवस के रूप में मनाया जाएगा और हमारे नौजवानों को उनकी योग्यता के अनुसार रोजगार मिले इसके लिए प्रयास किए जाएंगे।

मध्यप्रदेश के नौजवान अब नौकरी मांगने वाले नहीं, नौकरी देने वाले बन रहे

सीएम शिवराज ने कहा कि आज स्वामीविवेकानंद जयंती पर स्वामी जी के इस कथन से प्रेरणा लेना चाहिए कि- “मनुष्य यदि निश्चय कर ले और रास्ता बना ले तो कोई कार्य असंभव नहीं है।” स्वामी जी का वास्तविक नाम नरेन्द्र था, भारत के लिए भविष्यवाणी करते हुए उन्होंने कहा था कि आने वाली सदी भारत की होगी। सीएम शिवराज ने कहा कि आज एक और नरेन्द्र (प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी) के नेतृत्व में भारत वैभवशाली और गौरवशाली राष्ट्र बनकर विश्व गुरू के रूप में पहचान बना रहा है। सीएम शिवराज ने जमशेद जी टाटा की सफलता का उदाहरण देते हुए कहा कि वे छोटे से कार्य को प्रारंभ कर इतने बड़े उद्योगपति बने। शिवराज ने कहा कि हमारा प्रयास ऐसी शिक्षा प्रदान करना है, जो रोजगार भी उपलब्ध करवाए। मध्यप्रदेश के नौजवान अब नौकरी मांगने वाले नहीं, नौकरी देने वाले बन रहे हैं।


बम्पर भर्ती के मौके, बैकलॉग पदों की पूर्ति जल्द होगी पूरी
शिवराज ने कहा कि प्रदेश में बेकलॉग के पदों की पूर्ति और नवीन पदों पर नियुक्तियों के लिए चयन प्रक्रिया चल रही है। प्रदेश में लगातार भर्ती होगी। आयुष चिकित्सकों, नर्सिंग स्टाफ, सहायक, कौशल प्रशिक्षण अधिकारी, जेल प्रहरी, उप यंत्री के पदों के साथ ही सहकारिता और अन्य विभाग में पदों पर चयन के लिए कार्यवाही की जा रही है।

2 साल में 30लाख लोगों को मिलेगा रोजगार एमएसएमई मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा ने कहा कि मध्यप्रदेश को आत्म-निर्भर बनाने के लिये सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विभाग आगामी 2 साल में 30 लाख रोजगार सृजित करेगा। मध्यप्रदेश अकेला ऐसा राज्य होगा जहाँ कोरोना काल की विपरीत परिस्थितियों के बावजूद बहुत कम अवधि में 5 लाख 26 हजार युवाओं को रोजगार दिया गया है। अब रोजगार को और बढ़ावे के लिए स्टार्टअप पॉलिसी को भी जल्द फायनल करके लागू करेंगे।

कोरोना काल में हम हारे नहीं निवेश बड़ा
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में प्रयास किया जा रहा है। शिवराज ने कहा कि कोरोना काल में भी हम हारे नहीं हैं, उस काल में भी प्रदेश में निवेश आया है। टेक्सटाइल उद्योग सहित अन्य उद्योग के लिए क्लस्टर बनाए हैं। महिला सशक्तिकरण के लिए महिला स्व-सहायता समूहों को काम दे रहें हैं। ग्रामीण आजीविका मिशन में 12 लाख महिलाएं जुड़ी हैं। शिवराज ने विभिन्न योजनाओं के तहत रोजगार के लिए उठाए कदमों की जानकारी भी दी।

आजीविका मिशन व एक जिला एक उत्पाद से प्रदेश हो रहा समृद्धि सीएम शिवराज ने कहा कि मध्यप्रदेश में सहकारिता, कृषि, खनिज और पर्यटन क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा दिया गया है। मध्यप्रदेश का प्रसिद्ध शरबती गेहूं एमपी व्हीट के नाम से दुनिया में लोकप्रिय है। “एक जिला-एक उत्पाद” में सभी जिले के उत्पादों का चयन कर उनके अधिक से अधिक विक्रय के प्रयास किए जा रहे हैं। वनों से समृद्धि हासिल करने के प्रयास हो रहे हैं। देवारण्य योजना का क्रियान्वयन हो रहा है। वनोत्पाद की प्रोसेसिंग के पश्चात औषधि निर्माण के कार्य को बढ़ाया जा रहा है।सीएम शिवराज ने कहा कि मुख्यमंत्री राशन आपके द्वार योजना में कई जनजातियों को लाभ दिया गया। स्थानीय युवाओं को खाद्यान्न वितरण का दायित्व सौंपा गया है। 89 जनजातीय विकास खंडों में स्थानीय युवाओं को इस योजना में शामिल कर कार्यरत किया गया है। साथ ही कुसुम योजना में सोलर पैनल की स्थापना से आर्थिक उन्नयन के मार्ग भी प्रशस्त हुए हैं। 

Back to top button