राजनीति

Election के पहले ही राजेन्द्र ने खुद को मान लिया था सरपंच, CM Shivraj की तर्ज पर की थी यह घोषणा, नतीजो के बाद कलेक्टर का चलेगा डंडा 

Election Even before the election, Rajendra had accepted himself as Sarpanch : सरपंच बने नहीं फिर भी ग्रामीणों को जारी कर दिया गया आवास स्वीकृति प्रमाण पत्र, शिकायत बेअसर, फुटहड़वा पंचायत में उड़ाई गयी आचार संहिता की धज्जियां

Election सिंगरौली 11 जुलाई जिले के जनपद पंचायत चितरंगी के ग्राम पंचायत फुटहड़वा में आचार संहिता की खुलेआम धज्जियां उड़ाते हुए सैकड़ों आवास स्वीकृति प्रमाण पत्र जारी कर दिया गया,जिसकी शिकायत जिला निर्वाचन अधिकारी के साथ-साथ स्थानीय निर्वाचन अधिकारी से भी की गयी,लेकिन जिम्मेदार जिला प्रशासन के अधिकारी शिकायत को नजर अंदाज करते हुए कुंभकर्णीय निद्रा में सोते रहे. Election

Election के पहले ही राजेन्द्र ने खुद को मान लिया था सरपंच, CM Shivraj की तर्ज पर की थी यह घोषणा, नतीजो के बाद कलेक्टर का चलेगा डंडा 
photo by google
ग्राम पंचायत फुटहड़वा के अभ्यर्थी तेजबली सिंह के द्वारा जिला निर्वाचन अधिकारी, उपखण्ड अधिकारी, पुलिस अधीक्षक  सहित आला अफसरों को शिकायती पत्र देते हुए शिकायत दर्ज करायी थी.की ग्राम पंचायत क्षेत्र फुटहड़वा से अभ्यर्थी राजेन्द्र सिंह के द्वारा बड़ी चतुराई एवं दुर्गामी सूझ-बूझ के तहत मतदाताओं को अनैतिक रूप से लुभाने एवं अवैधानिक रूप से लालच दिये जाने की नियत से आवास स्वीकृति प्रमाण पत्र dene ki bat kahi thi .
 wahi 20 मई 2022 लेख किया जाकर अपने आपको निर्वाचन के पहले ही सरपंच होने का प्रपंच दर्शित करते हुए आवास स्वीकृति प्रमाण पत्र फुटहड़वा के सैकड़ों गरीब मजदूरों को आचार संहिता के दौरान आवास स्वीकृति प्रमाण पत्र जारी कर दिया गया था.Election
Election के पहले ही राजेन्द्र ने खुद को मान लिया था सरपंच, CM Shivraj की तर्ज पर की थी यह घोषणा, नतीजो के बाद कलेक्टर का चलेगा डंडा 
photo by google
जिसकी शिकायत 6 जून को नायब तहसीलदार वृत्त कोरावल व उपखण्ड अधिकारी चितरंगी के पास की गयी थी,शिकायत किये जाने के बाद भी उपखण्ड अधिकारी चितरंगी व नायब तहसीलदार के द्वारा उक्त शिकायत को गंभीरता से नहीं लिया गया,जबकि अभ्यर्थी के द्वारा इस बात की जानकारी दी गयी थी की भले ही इस प्रमाण पत्र में 20 मई का जिक्र किया गया हो.
लेकिन यह प्रमाण पत्र आचार संहिता लागू होने के बाद गरीब मजदूरों को वितरित करते हुए अपने पक्ष में मतदान करने के लिए लुभावने वायदे दिखाये गये थे.फिर भी जिम्मेदार अधिकारी शिकायत को नजर अंदाज करते हुए उदासीनता बरतते रहे और आरोप है की राजेन्द्र सिंह के इस लोक लुभावने का फायदा पंचायत चुनाव में मिला,राजेन्द्र सिंह 1200 से अधिक मतों से आगे होना बताया जा रहा है.Election

सेल्समैन पुत्र ने दी थी धमकी,वोट नहीं तो खाद्यान्न नहीं

Election के पहले ही राजेन्द्र ने खुद को मान लिया था सरपंच, CM Shivraj की तर्ज पर की थी यह घोषणा, नतीजो के बाद कलेक्टर का चलेगा डंडा 
photo by google
शिकायत में आरोप लगाते हुए अभ्यर्थी तेजबली सिंह ने कहा कि सरपंच पद के प्रत्याशी राजेन्द्र सिंह के पुत्र विक्रम सिंह शासकीय उचित मूल्य दुकान फुटहड़वा, भुईधरवा के सेल्समैन हैं. मतदाताओं से कह रहे थे की मेरे पिता जी को वोट नहीं दोगे तो मैं शासन से मिलने वाले खाद्यान्न को नहीं दूंगा.Election
इस प्रकार के अनैतिक धमकी दिये जाने की शिकायत उपखण्ड अधिकारी चितरंगी से की गयी थी,शिकायत के आधार पर 14 जून को आदेश भी जारी हुआ था की सेल्समैन विक्रम सिंह को तत्काल प्रभाव से स्थायी निर्वाचन शाखा चितरंगी में संलग्र किया जाय, लेकिन कनिष्ट आपूर्ति अधिकारी चितरंगी के द्वारा उपखण्ड अधिकारी के आदेश की खुलेआम धज्जियां उड़ाते हुए सेल्समैन विक्रम सिंह का स्थानांतरण नहीं किया गया.Election
Election के पहले ही राजेन्द्र ने खुद को मान लिया था सरपंच, CM Shivraj की तर्ज पर की थी यह घोषणा, नतीजो के बाद कलेक्टर का चलेगा डंडा 
photo by google

 अधिकारियों ने शिकायत को किया नजरअंदाज

फुटहड़वा के सरपंच पद के प्रत्याशी रहे तेजबली सिंह ने सरपंच पद के प्रत्याशी राजेन्द्र सिंह के क्रियाकलापों की शिकायत जिला निर्वाचन अधिकारी, स्थानीय निर्वाचन अधिकारी, पुलिस अधीक्षक, जनपद पंचायत चितरंगी सीईओ से करते हुए कहा था की इनके द्वारा सरपंच बनने के पूर्व ही आवास प्रमाण पत्र जारी किया गया.Election
इसके अलावा इनके पुत्र के द्वारा मतदाताओं को धमकी देने से गांव की जनता त्रस्त है. इन शिकायतों को देखने व सुनने के बाद भी जिम्मेदार जिला प्रशासन के अधिकारी एक भी शिकायत की जांच कराने की दिलचस्पी नहीं दिखाते हुए नजरअंदाज किया है.Election

Back to top button